पंचायत चुनाव को लेकर सैफई में मुलायम परिवार ने किया मतदान

यूपी में पंचायत चुनाव के दूसरे चरण का मतदान जारी है। इसे लेकर सुरक्षा व्यवस्था के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। राज्य में लम्बे समय तक राज करने वाले मुलायम परिवार के लिए यह चुनाव काफी महत्वपूर्ण है।

सैफई में बदायूं से पूर्व सांसद धर्मेन्द्र यादव, उनके पिता अभय राम सिंह यादव और शिवपाल सिंह यादव के बेटे और प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव आदित्य यादव ने भी मतदान किया।

मतदान के बाद पूर्व सांसद धर्मेन्द्र यादव कहा समाजवादी पार्टी से समर्थित प्रत्याशी इटावा, मैनपुरी, कन्नौज इसके अलावा जहा भी लड़ रहे वह सभी विजय होंगे। सैफई में भी सपा समर्थित उम्मींदवार जीतेगा।

कोविड के चलते नेताजी मुलायम सिंह यादव व पूर्व मुख्यमंत्री व सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव सैफई वोट डालने नहीं आ पाएंगे। अखिलेश यादव अब ठीक हैं और वह जल्द ही हम सबके मध्य होंगे।

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव आदित्य उर्फ अंकुर यादव ने पत्नी राजलक्ष्मी के साथ सैफई में मतदान किया।सोमवार को लखनऊ सहित 20 जिलों में मतदान हो रहा है। दूसरे चरण के मतदान में 3,54,999 उम्मीदवारों के भाग्य का निर्णय करीब 3.2 करोड़ मतदाता करेंगे।

इस दौरान प्रदेश में 2,23,118 पदों के लिए वोटिंग हो रही है। आजमगढ़ के त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को लेकर सोमवार की सुबह सात बजे से सभी बूथों पर मतदान जारी है। मतदान शुरू होते ही बूथों पर लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी। गांव की सरकार को चुनने के लिए लोगों में खासा उत्साह देखने को मिल रहा है।

जनपद में ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत सदस्य, क्षेत्र पंचायत सदस्य और जिला पंचायत सदस्य पद के लिए मतदान का कार्य सुबह सात बजे शुरू हो गया।ललितपुर जिले के तालबेहट के ग्राम सुनोरी में क्षेत्र पंचायत सदस्य, सट्टा कडेसराकला में क्षेत्र पंचायत सदस्य और वार्ड नंबर 6 के मतपत्र सही नहीं निकले।

इसलिए मतदान काफी देरी से शुरू हो पाया। जिससे ग्रामीणों में रोष देखा गया। इटावा के निवाड़ीकला में एएसपी ग्रामीण और एडीएम ने पोलिंग बूथ का दौरा किया। यहां बिना मास्क लगाए लोगों को पुलिस ने खदेड़ा।

ज्ञात हो कि आज मुजफ्फरनगर, बिजनौर, बागपत, गौतमबुद्धनगर, एटा, अमरोहा, बदायूं, मैनपुरी, कन्नौज, इटावा, ललितपुर, चित्रकूट, प्रतापगढ़, लखनऊ, लखीमपुर खीरी, गोंडा, सुलतानपुर, महाराजगंज, वाराणसी व आजमगढ़ में मतदान चल रहा है।

Check Also

आरबीआई ने सभी क्रेडिट सूचना कंपनियों को दिया एक आंतरिक लोकपाल नियुक्त करने का निर्देश

आरबीआई ने सभी क्रेडिट सूचना कंपनियों को 1 अप्रैल, 2023 तक एक आंतरिक लोकपाल नियुक्त करने …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *