गीतांजलि ज्वेलर्स से जब्त हीरों की जांच कराएगी ईडी

नीरव मोदी के मामा मेहुल चौकसी की फर्म गीतांजलि ज्वैलर्स से रायपुर में जब्त गहने नकली हो सकते हैं। ईडी(एन्फोर्समेंट डायरेक्टोरेट) को शक है कि देशभर से गीतांजलि ज्वैलर्स के शोरूम से जो गहने जब्त हुए, उनमें जड़े हीरे टेस्टलैब में बने हुए हैं। यह शक सिर्फ रायपुर छापामार टीम को ही नहीं, ईडी के हेडक्वार्टर को भी है।

इसीलिए ईडी ने छत्तीसगढ़ समेत सभी रीजनल टीमों को निर्देश दिए हैं कि छापेमारी में हीरे की जो भी ज्वैलरी पकड़ी जा रही है, उसे सुरक्षित रखें। देशभर से जब्त हुई ज्वैलरी ईडी के मुंबई हेडक्वार्टर में इकट्ठी की जाएगी, हीरों की जांच वहीं होगी।पिछले हफ्ते 11,500 करोड़ के पीएनबी घोटाले के खुलासे के बाद ईडी ने पूरे देश में गीतांजलि ज्वेलर्स के देशभर में फैले 38 शोरूम्स में छापेमारी की थी।

इस दौरान देशभर से 22 करोड़ रुपए की ज्वैलरी जब्त हुई। रायपुर में करीब 1.77 करोड़ रुपए की ज्वैलरी जब्त हुई, जिसे ईडी ने स्टेशन रोड स्थित पीएनबी ब्रांच में जमा करवा दिया।ईडी की रायपुर टीम ने हेडक्वार्टर मुंबई को भेजी गई विजिट कम सीजर रिपोर्ट में इसकी विस्तृत जानकारी दी है। मंगलवार को जब्त हीरों के लैब निर्मित (नकली) होने का संकेत मिला।

स्थानीय सूत्रों के मुताबिक बरामद ज्वैलरी की मुंबई हेडक्वार्टर लैब टेस्ट के साथ वैल्यूएशन भी करा सकता है। इसके लिए पीएनबी की सभी शाखाओं से ज्वैलरी मुंबई भेजी जा रही है।गीतांजलि ज्वेलर्स लैब में कैमिकल से बनाए गए अमेरिकन डायमंड्स को सोने में जड़कर बेचा गया। इसमें सोने के साथ नकली डायमंड को असली बताकर 20 से 30% ज्यादा कीमत पर बेचा जाता रहा।

नीरव मोदी की कंपनी की हीरा माइनिंग और कारोबार करने वाली विश्व की सबसे बड़ी ऑस्ट्रेलियन कंपनी रियो टिंटो से साझेदारी है। रियो टिंटो के हाई टेक्नालॉजी हेडक्वार्टर में लैब मेन्यूफेक्चर्ड हीरे बनाए जाते हैं।इधर सूत्रों के मुताबिक ईडी ने पीएनबी की स्टेशन रोड ब्रांच में भी गहन जांच की।

करेंसी चेस्ट वाले इस ब्रांच में जांच के दौरान ईडी ने यह पता लगाने की कोशिश की है कि मेहुल चौकसी, नीरव मोदी या गीतांजलि के नाम से रायपुर की किसी ब्रांच में अकाउंट खोलकर क्रेडिट लिमिट के जरिए चूना तो नहीं लगाया। ईडी के अफसरों ने बैंक में आधी रात बाद तक पड़ताल की पर उन्हें कोई खाता नहीं मिला।

फाइनेंस मिनिस्टर अरुण जेटली ने कहा है 6 साल में ऑडिटर यह घोटाला क्यों नहीं पकड़ पाए? ऑडिट टीम से इस बारे में पूछताछ की जाएगी। जब मैनेजमेंट को अथॉरिटी दी जाती है तो उम्मीद करते हैं कि वह इसका सही और असरदार तरीके से इस्तेमाल करेंगे। मैनेजमेंट जिम्मेदारी निभाने में लापरवाह रहा।

पीएनबी के साथ धोखाधड़ी के मामले में सीबीआई ने मंगलवार रात नीरव की कंपनी के सीएफओ और प्रेसीडेंट (फाइनेंस) विपुल अंबानी को गिरफ्तार कर लिया गया। वह रिलायंस प्रमुख मुकेश अंबानी का चचेरा भाई है।विपुल के अलावा नीरव-मेहुल की कंपनियों के चार और अफसर गिरफ्तार किए गए हैं।

इनमें तीन फर्मों की अॉथराइज्ड सिग्नेटरी कविता मणिकर, फायरस्टार का सीनियर एग्जीक्यूटिव अर्जुन पाटिल, नक्षत्र ग्रुप का सीएफओ कपिल खंडेलवाल और गीतांजलि का मैनेजर नितेन शाही शामिल है।सीबीआई अब तक कुल 11 लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है, जिनमें से पांच पीएनबी और छह नीरव-मेहुल की कंपनियों से जुड़े हैं।

इससे पहले सीबीआई ने मंगलवार दिनभर पीएनबी के एक एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर सहित 10 और नीरव-मेहुल की कंपनियों के 8 अफसरों से पूछताछ की थी। सीबीआई ने नीरव के अलीबाग स्थित फार्म हाउस पर भी छापा मारा।इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने टैक्स चोरी पकड़ने के लिए मंगलवार को मेहुल चौकसी और उसके गीतांजलि ग्रुप पर देशभर में 20 जगह छापे मारे।

मुंबई, पुणे, सूरत, हैदराबाद, बेंगलुरू सहित अन्य शहरों में 13 कंपनियों पर छापे मारे गए।इसी बीच, नीरव मोदी के शोरूम से छह करोड़ रुपए की ज्वैलरी खरीदने पर इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी की पत्नी अनीता सिंघवी को नोटिस जारी किया है।

सीबीआई ने मंगलवार को पीएनबी के 10 अधिकारियों से पूछताछ की। इनमें एक एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर लेवल का अफसर भी शामिल है। वहीं, नीरव मोदी और गीतांजलि ग्रुप के 18 अन्य कर्मचारियों से भी पूछताछ की गई। सीबीआई टीम ने नीरव के अलीबाग स्थित फार्म हाउस पर भी छापा मारा।

एटी ज्वैलर्स केशांतिलाल बरड़िया ने बताया जो व्यक्ति 10 साल से किसी डायमंड शोरूम में काम कर रहा है, वो भी असली और नकली में अंतर नहीं पहचान पाता। इसकी पहचान एक तरीके से की जा सकती है, जो आमतौर पर कोई करता नहीं। चाकू पर जिस एमरी पत्थर से धार की जाती है, उसके ऊपर हीरे को रगड़ दो। हीरा असली होगा तो कुछ नहीं होगा। नकली होगा तो स्क्रैच आ जाएंगे।

Check Also

आरबीआई ने सभी क्रेडिट सूचना कंपनियों को दिया एक आंतरिक लोकपाल नियुक्त करने का निर्देश

आरबीआई ने सभी क्रेडिट सूचना कंपनियों को 1 अप्रैल, 2023 तक एक आंतरिक लोकपाल नियुक्त करने …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *