पीएनबी घोटाला में मेहुल चौकसी के प्रत्यर्पण में मदद करेगा एंटीगुआ

पीएनबी घोटाले के आरोपी मेहुल चौकसी की मुश्किल और बढ़ सकती है। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने संयुक्त राष्ट्र में एंटीगुआ और बरबूडा के विदेश मंत्री ईपी चेत ग्रीन से चौकसी के प्रत्यर्पण को लेकर बात की। ग्रीन ने भरोसा दिलाया कि वे हरसंभव मदद करेंगे। चौकसी इस समय एंटीगुआ में ही है।

न्यूज एजेंसी ने विदेश मंत्रालय के सूत्रों के हवाले से बताया, सुषमा ग्रीन को यह समझाने में कामयाब रहीं कि चौकसी भारत में बहुत बड़ा घोटाला करके भागा है। एंटीगुआ और भारत के बीच प्रत्यर्पण संधि हो चुकी है। इसकी मदद से चौकसी को वापस लाने की कोशिश की जा रही है।

 

चौकसी के एंटीगुआ में होने की पुष्टि के बाद भारतीय एजेंसियां उस तक पहुंचने के लिए हर विकल्प पर काम कर रही हैं। कुछ समय पहले एंटीगुआ सरकार ने बताया था कि भारत से पुलिस क्लियरेंस मिलने के बाद ही भगोड़े कारोबारी को एंटीगुआ की नागरिकता दी गई। 

एंटीगुआ सरकार के मुताबिक, मई 2017 में चौकसी ने नागरिकता के लिए आवेदन किया था। उसने जरूरी कागजात भी जमा किए थे। इनमें एंटीगुआ और बरबूडा सिटिजनशिप बाई इन्वेस्टमेंट एक्ट 2013 के सेक्शन 5(2)(b) के तहत जरूरी भारतीय पुलिस का क्लियरेंस सर्टिफिकेट भी शामिल था। 

ग्रीन के अलावा सुषमा ने बोलिविया, अर्मेनिया, ऑस्ट्रिया, पनामा, जर्मनी और चिली के विदेश मंत्रियों या उनके समकक्षों से भी मुलाकात की। पाक के अनुरोध के बाद सुषमा और पाकिस्तान के विदेश मंत्री की मुलाकात तय हुई थी। जम्मू-कश्मीर में तीन पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद यह मीटिंग रद्द कर दी गई। 

Check Also

आरबीआई ने सभी क्रेडिट सूचना कंपनियों को दिया एक आंतरिक लोकपाल नियुक्त करने का निर्देश

आरबीआई ने सभी क्रेडिट सूचना कंपनियों को 1 अप्रैल, 2023 तक एक आंतरिक लोकपाल नियुक्त करने …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *