पंजाब की जीत कैप्टन अमरिंदर सिंह को जन्मदिन का तोहफा

पंजाब में मतगणना के बाद शुरुआती रुझानों में कांग्रेस पार्टी को 73 सीटों पर बढ़त हासिल है जबकि अकाली-बीजेपी गठबंधन 18 सीट पर बढ़त बनाए हुए है. दिल्ली में सत्ताधारी आम आदमी पार्टी को पंजाब में 24 सीटों पर बढ़त हासिल है. पंजाब में 27 स्थानों के 54 मतदान केंद्रों पर मतों की गिनती जारी है. 

कांग्रेस पार्टी की जीत पर नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि पंजाब की जनता ने भ्रष्टाचार और लूट की सरकार को नकारते हुए कांग्रेस पार्टी को बहुमत दिया है. उन्होंने कहा कि जैसा कि उन्होंने सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी से वादा किया था उसे पूरा किया है. सिद्धू ने कहा कि ये कांग्रेस के उभार का दौर है.

पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह का आज जन्म दिन भी है और पार्टी के तमाम कार्यकर्ता उनके घर के बाहर जमा होकर जश्न मना रहे हैं. कैप्टन के घर की सुरक्षा भी बढ़ा दी गई है. आम आदमी पार्टी मालवा में ही जनाधार बनाने में कामयाब रही है. बाकी दोआब और माझा में पार्टी को भारी नुकसान हुआ है.

चुनावों में मतदाताओं के जनादेश पाने की होड़ में सत्तारुढ़ अकाली दल के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल से लेकर, आम आदमी पार्टी के भगवंत मान और कांग्रेसी पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह बादल समेत राजनीति की कई प्रमुख हस्तियां शामिल हैं.पंजाब में 4 फरवरी को एक ही चरण में मतदान हुआ था और 75 फीसदी वोटिंग हुई थी.

पंजाब में अभी शिरोमणि अकाली दल और बीजेपी गठबंधन को करारी शिकस्त मिलती दिख रही है. कांग्रेस  ने SAD-बीजेपी और आम आदमी पार्टी को पछाड़ते हुए बहुमत से ज्यादा सीटों पर बढ़त बना ली है. एग्जिट पोल में भी कांग्रेस और आम आदमी पार्टी को मजबूत दिखाया गया है, जबकि अकाली दल-बीजेपी गठबंधन को सत्ता से बाहर कर दिया गया है.

एग्जिट पोल के नतीजों में कांग्रेस का 62 से 71 सीटों पर जीतने का अनुमान लगाया गया है, जबकि ‘आप’ को 42 से 51 सीटें दी गई हैं.चुनाव आयोग ने मतगणना के लिए कड़े दिशा-निर्देश जारी किए हैं और मतगणना कक्ष के भीतर मोबाइल ले जाने की अनुमति नहीं होगी. सामान्य पर्यवेक्षकों के इतर हर मतगणना टेबल पर एक माइक्रो-आब्जर्वर को भी तैनात किया जाएगा.

मतगणना केंद्रों के आसपास त्रिस्तरीय सुरक्षा प्रबंध किए गए हैं. मतगणना केंद्रों के भीतर केवल केंद्रीय बलों की तैनाती की जाएगी. बाहरी क्षेत्र में स्थानीय पुलिस को ड्यूटी पर लगाया जाएगा. मतगणना केंद्रों के भीतर किसी भी अनधिकृत व्यक्ति के प्रवेश को रोकने के लिए अन्य राज्यों के पुलिस बलों की तैनाती की गई है.

प्रवेश स्थल पर भीड़ और लोगों के प्रवेश को नियंत्रित करने के लिए एक वरिष्ठ मजिस्ट्रेट को तैनात किया जाएगा. मतगणना केंद्र के 100 मीटर की परिधि में वाहनों को प्रवेश की इजाजत नहीं होगी. स्ट्रांग रूम से मतगणना कक्ष तक ईवीएम को ले जाने की निगरानी के लिए अतिरिक्त सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं.

पंजाब में 4 फरवरी को एक चरण में ही मतदान हुआ था. राज्य में कुल 78.6 फीसदी वोट पड़े. अगर 2012 के विधानसभा चुनाव की बात करें तो पिछले चुनाव में बीजेपी-अकाली गठबंधन को 68 सीटें मिली थीं जबकि कांग्रेस पार्टी ने 46 सीटों पर जीत दर्ज की थी.

हालांकि वोट शेयर के मामले में कांग्रेस पार्टी अकाली दल पर हावी रही थी. कांग्रेस को पिछले चुनाव में 40 फीसदी वोट मिले थे जबकि अकाली दल को 34.75 फीसदी वोट ही मिले थे. चुनाव में बीजेपी को 7.18 फीसदी वोट मिले थे. आम आदमी पार्टी पंजाब में पहली बार चुनाव लड़ रही है.

Check Also

आरबीआई ने सभी क्रेडिट सूचना कंपनियों को दिया एक आंतरिक लोकपाल नियुक्त करने का निर्देश

आरबीआई ने सभी क्रेडिट सूचना कंपनियों को 1 अप्रैल, 2023 तक एक आंतरिक लोकपाल नियुक्त करने …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *