Home / दुनिया / विदेशी महिला से सामूहिक बलात्कार के मामले में पांच लोगों को उम्र कैद

विदेशी महिला से सामूहिक बलात्कार के मामले में पांच लोगों को उम्र कैद

rape

नयी दिल्ली रेलवे स्टेशन के पास दो साल पहले चाकू का भय दिखाकर 52 साल की एक डेनिश महिला से सामूहिक बलात्कार करने के मामले में दिल्ली की एक अदालत ने पांच लोगों को उम्र कैद की सजा सुनाई.अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश रमेश कुमार ने महेंदर उर्फ गंजा (25), मोहम्मद रजा (25), राजू (23), अर्जुन (21) और राजू चक्का (30) को सजा सुनाई. 

न्यायाधीश ने फैसला सुनाते हुए कहा, ‘‘भारतीय दंड संहिता की धारा 376 डी के तहत सभी दोषियों को उम्र कैद की सजा सुनाई जाती है.अदालत ने राजू और राजू चक्का पर 83,000 रूपया तथा महेन्दर और मोहम्मद रजा पर 93,000 रूपया जबकि अर्जुन पर 1,03,000 रूपये का जुर्माना लगाया.

 

अदालत ने इन पांच लोगों को भारतीय दंड संहिता की धारा 376 डी (सामूहिक बलात्कार), 395 (डकैती), 366 (अपहरण), 342 (अवैध रूप से बंधक बनाना), 506 (आपराधिक भयादोहन) और 34 (साझा इरादा) के तहत दोषी ठहराया.सामूहिक बलात्कार के अलावा अदालत ने इन दोषियों को अन्य आरोपों में दोषी करार देते हुए अलग-अलग अवधि की कैद की सजा सुनाई. 

पुलिस के मुताबिक नौ लोगों ने 14 जनवरी 2014 की रात डेनिश पर्यटक को रेलवे स्टेशन के पास डिवीजनल रेलवे आफिसर क्लब के पास एक सुनसान स्थान पर ले जा कर उससे लूटपाट की और उसके साथ सामूहिक बलात्कार किया.छठे आरोपी श्याम लाल (56) की इस साल फरवरी में मौत हो गई और उसके खिलाफ कार्यवाही रोक दी गई. 

मामले के तीन अन्य आरोपी किशोर हैं और उनके खिलाफ किशोर न्याय बोर्ड में जांच प्रगति पर है.विशेष सरकारी वकील अतुल श्रीवास्तव ने दोषियों के लिए अधिकतम सजा की मांग की थी जो स्वाभाविक जीवन काल तक हो. उन्होंने इसके पीछे यह दलील दी थी कि अपराध बर्बर और अमानवीय तरीके से किया गया. 

गौरतलब है कि पीड़िता यहां एक जनवरी 2014 को आई थी और आगरा जाने से पहले कुछ दिन ठहरी थी. कई स्थानों की यात्रा करने के बाद वह 13 जनवरी 2014 को दिल्ली लौटी और रेलवे स्टेशन के पास पहाड़गंज के होटल में ठहरी थी.अगले दिन जब वह अपने होटल लौट रही थी तब वह रास्ता भटक गई और एक आरोपी से रास्ता बताने को कहा तभी उसके साथ यह घटना हुई.

Check Also

पापुआ न्यू गिनी में फिर भूकंप के झटके

पापुआ न्यू गिनी में एक बार फिर भूकंप के झटके महसूस किये गये हैं। रिक्टर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *