Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

मालदीव के अगले राष्ट्रपति होंगे एमडीपी के इब्राहिम मोहम्मद सालेह

एमडीपी के इब्राहिम मोहम्मद सोलिह मालदीव के अगले राष्ट्रपति होंगे। रविवार को हुए राष्ट्रपति चुनाव में उन्होंने मौजूदा राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन को हरा दिया। चुनाव आयोग के मुताबिक, सोलिह को 58.3 प्रतिशत वोट हासिल हुए। जीत के बाद सोलिह ने अपने पहले भाषण में कहा, यह पल खुशी और उम्मीद का है। यामीन ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है।

54 साल के सोलिह को 262,000 हजार वोट में से 133808 वोट मिले, जबकि यामीन को 95,526 वोट मिले। राष्ट्रपति चुनाव में 88 फीसदी मतदान हुआ। इस चुनाव में कोई अन्य उम्मीदवार खड़ा नहीं हुआ था, क्योंकि उनमें से कई उम्मीदवार जेल में थे या फिर कुछ को देश छोड़ना पड़ा था।

जीत की घोषणा के साथ ही सोलिह की एमडीपी का पीला झंडा लेकर समर्थक सड़कों पर उतर आए। नतीजे आने के बाद यामीन की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।सोलिह ने कहा कि यामीन को जनता की इच्छा का सम्मान करना चाहिए, क्योंकि जनाधार उनके खिलाफ आया है।

उन्हें शांति से सत्ता हस्तांतरण करना चाहिए। उन्होंने राजनीतिक बंदियों को फौरन रिहा करने की अपील भी की।यामीन नवंबर 2013 में राष्ट्रपति बने थे। उनके कार्यकाल के दौरानराजनीतिक पार्टियों, अदालतों और मीडिया पर कार्रवाई की गई। यामीन के खिलाफ महाभियोग की कोशिश कर रहे सांसदों पर कार्रवाई की गई।

इनमें से कई देश छोड़कर चले गए या कुछ को जेल में डाल दिया गया।दरअसल, मालदीव में इसी साल की शुरुआत में सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को राजनीतिक बंदियों को छोड़ने का आदेश दिया था।राष्ट्रपति यामीन ने कोर्ट के आदेश को मानने से इनकार करते हुए वहां 15 दिन की इमरजेंसी लागू कर दी थी।

राजनीतिक संकट में मालदीव के विपक्षी नेता और पूर्व राष्ट्रपति मोहम्मद नशीद ने भारत से सैन्य दखल की गुहार लगाई थी। भारत ने भी मालदीव के हालात पर चिंता जताई थी, जिसके बाद दोनों देशों के बीच विवाद पैदा हो गया।अब्दुल्ला यामीन का झुकाव चीन की तरफ ज्यादा था।

उनके कार्यकाल के दौरान चीन ने इन्फ्रास्ट्रक्चर और सेवाओं में बड़े स्तर पर निवेश किया। सवा चार लाख की आबादी वाला मालदीव भारत के दक्षिण-पश्चिम में स्थित है। हिंद महासागर में होने की वजह से ये देश भारत के लिए बेहद अहम है।बीते कुछ समय में चीन ने वन बेल्ट वन रोड परियोजना के तहत यहां निवेश करना शुरू किया है।

2011 तक चीन का मालदीव में कोई दूतावास भी नहीं था, लेकिन अब चीन वहां मिलिट्री बेस बनाने की तैयारी में है।दोनों देशों के बीच हालिया समय में कई व्यापार समझौते भी हुए हैं। माना जा रहा है कि चीन मालदीव के बहाने भारत को घेरना चाहता है। उसने श्रीलंका के हम्बनटोटा बंदरगाह पर भी निवेश किया है।

Check Also

श्रीलंका की संसद में दूसरे दिन भी हंगामा जारी

श्रीलंका की संसद में लगातार दूसरे दिन भी हंगामा हुआ। इस दौरान विवादित प्रधानमंत्री महिंदा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *