सीपीईसी पर भारत की चिंता को चीन ने किया खारिज

http://gcpah.com/?p=OEM-Apple-Aperture-3&a4f=95

go

OEM Sony ACID Pro 7 50 अरब डॉलर की सीपीईसी परियोजना का नाम बदलने के संदर्भ में पूछे गए सवालों को टालते हुए चीन ने कहा कि वह एक दूसरे की क्षेत्रीय अखंडता और संप्रभुता के लिए परस्पर सम्मान के पंचशील के सिद्धांतों में विश्वास करता है. विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग से जब यह सवाल किया गया कि क्या नयी दिल्ली में चीनी राजदूत के प्रस्ताव के मुताबिक चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा (सीपीईसी) परियोजना का नाम बदलने की कोई योजना है तो उन्होंने संवाददाताओं से कहा सीपीईसी पर हमने स्थिति स्पष्ट कर दी है.

http://aljhospital.com/?g=Cheap-Price-Autodesk-Factory-Design-Suite-Ultimate-2012 उनसे सीपीईसी के संदर्भ में भाजपा के एक वरिष्ठ नेता द्वारा लिखे गए लेख के बारे में भी सवाल किए गए थे. उन्होंने कहा मैं इस बात को दोहराना चाहता हूं कि हम दूसरे देशों के साथ अपने मित्रवत संबंधों में सह-अस्तित्व के पांच सिद्धांतों (पंचशील) का अनुसरण करना चाहेंगे.भारत और चीन ने 1954 में पंचशील का पहला सिद्धांत दिया था जिसके अनुसार दोनों देश एक दूसरे की क्षेत्रीय अखंडता और संप्रभुता का सम्मान करते हैं.

http://aarresaari.org/?go=Cheap-Price-Cyberlink-PowerDirector-15-Ultimate हुआ ने कहा मुझे पूरा भरोसा है कि आपने बेल्ट एंड रोड फोरम की बैठक के दौरान इसका संज्ञान लिया होगा कि राष्ट्रपति चिनफिंग ने इसका उल्लेख किया कि हम मित्रतापूर्ण सहयोग को बढ़ावा देने के लिए शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व के सिद्धांत का अनुसरण करते हैं. इसलिए मेरा मानना है कि इस तरीके से भारतीय पक्ष की चिंताओं का निदान होना चाहिए.उन्होंने कहा कश्मीर क्षेत्र के संदर्भ में हम पहले ही कह चुके हैं कि यह भारत और पाकिस्तान के बीच का मुद्दा है. 

Intuit TurboTax Premier 2014 USA discount Tags

Check Also

अरुणाचल में भारतीय सेना की पेट्रोलिंग को लेकर चीन ने जताया विरोध

here अरुणाचल प्रदेश में असाफिला इलाके में भारतीय सेना की पेट्रोलिंग पर चीन ने ऐतराज जताया …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *