Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

बेंगलुरु में एक चीनी सिटिजन पर हमले में 5 आरोपी अरेस्ट

चीनी सिटिजन पर हमले का मामला सामने आया है। हमले में चीन के नागरिक को चोटें आई हैं। पुलिस ने 5 आरोपियों को अरेस्ट किया है। बता दें कि 16 जून से भारत-चीन के बीच डोकलाम को लेकर बॉर्डर विवाद चल रहा है। भारत ने बातचीत से मसले को सुलझाने को कहा है। साथ ही कहा है कि दोनों देशों की सेनाएं वापस जाएं। चीन का कहना है कि भारत ने उसकी सीमा में घुसपैठ की है।

लिहाजा भारतीय आर्मी को वापस जाना चाहिए। एक अगस्त को चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) की 90th एनिवर्सरी है। इससे दो दिन पहले रविवार को चीन ने अपनी ताकत का प्रदर्शन किया। इनर मंगोलिया में स्थित चीन के सबसे बड़े मिलिट्री बेस झूरिहे में परेड निकाली गई।इस मौके पर चीन के प्रेसिडेंट शी प्रेसिडेंट बाकायदा मिलिट्री यूनिफॉर्म पहनकर शामिल हुए।

जिनपिंग ने कहा चीन की आर्मी को खुद पर पूरा भरोसा है और वह घुसपैठ करने वाले दुश्मन को हराने की ताकत रखती है।पीएलए को सख्ती से कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना (CPC) को फॉलो करना चाहिए। आर्मी को वहीं ही जाना चाहिए जहां पार्टी निर्देश दे।” हालांकि अपनी स्पीच में जिनपिंग ने डोकलाम विवाद का जिक्र नहीं किया।

ये विवाद 16 जून को तब शुरू हुआ था, जब इंडियन ट्रूप्स ने डोकलाम एरिया में चीन के सैनिकों को सड़क बनाने से रोक दिया था। हालांकि चीन का कहना है कि वह अपने इलाके में सड़क बना रहा है।इस एरिया का भारत में नाम डोका ला है जबकि भूटान में इसे डोकलाम कहा जाता है। चीन दावा करता है कि ये उसके डोंगलांग रीजन का हिस्सा है।

भारत-चीन का जम्मू-कश्मीर से लेकर अरुणाचल प्रदेश तक 3488 km लंबा बॉर्डर है। इसका 220 km हिस्सा सिक्किम में आता है।नई दिल्ली ने चीन को बता दिया है कि चीन के सड़क बनाने से इलाके की मौजूदा स्थिति में अहम बदलाव आएगा, भारत की सिक्युरिटी के लिए ये गंभीर चिंता का विषय है। रोड लिंक से चीन को भारत पर एक बड़ी मिलिट्री एडवान्टेज हासिल होगी।

इससे नॉर्थइस्टर्न स्टेट्स को भारत से जोड़ने वाला कॉरिडोर चीन की जद में आ जाएगा।इंडियन आर्मी के जवानों ने चीनी सैनिकों के अड़ियल रवैये को देखते हुए सिक्किम के डोकलाम इलाके में 9 जुलाई से अपने तंबू गाड़ रखे हैं। बॉर्डर पर दोनों देशों की 60-70 सैनिकों की टुकड़ी 100 मीटर की दूरी पर आमने-सामने डटी हैं। दोनों ओर की सेनाएं भी यहां से 10-15 km की दूरी पर तैनात हैं।

भारत ने डोकलाम से अपनी सेनाएं बिना शर्त वापस बुलाने की चीन की मांग ठुकरा दी है। चीन के सरकारी न्यूज पेपर पीपुल्स डेली के एक रिपोर्टर के सवाल पर इंडियन फॉरेन मिनिस्ट्री के स्पोक्सपर्सन गोपाल बागले ने ये जवाब दिया।

Check Also

इजरायल ने गाजा में फिलिस्तीन आतंकी संगठन के ठिकानों पर किया हमला

इजरायल ने गाजा में फिलिस्तीन आतंकी संगठन के ठिकानों पर हमला किया। इजरायल ने 5 …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *