अमेरिका ने पाकिस्तान को दी जाने वाली 1626 करोड़ रुपए की मिलिट्री मदद रोकी

अमेरिका ने पाकिस्तान को दी जाने वाली 255 मिलियन डॉलर (इंडियन करंसी के हिसाब से करीब 1626 करोड़ रुपए) की मिलिट्री ऐड (सैन्य मदद) रोक दी है। व्हाइट हाउस ने मंगलवार को इसकी पुष्टि भी कर दी। अमेरिका की तरफ से यह कार्रवाई प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रम्प के पाकिस्तान पर लगाए गए आरोपों के एक दिन बाद की है।

बता दें कि ट्रम्प ने नए साल के पहले दिन पाकिस्तान पर आरोप लगाया था कि वो अमेरिका से आतंकवाद के खात्मे के नाम पर 15 साल में 33 बिलियन डॉलर (2.14 लाख करोड़ रुपए) ले चुका है, इसके बावजूद धोखा दे रहा है।न्यूज एजेंसी के मुताबिक, अमेरिका ने पाकिस्तान को दी जाने वाली 1628 करोड़ रुपए (255 मिलियन डॉलर) की मदद रोकते हुए कहा है कि अब पाकिस्तान को कोई भी मदद करने से पहले यह देखा जाएगा कि इस्लामाबाद ने आतंकवाद के खिलाफ क्या और कितनी कारगर कार्रवाई की है।

ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन के एक अफसर ने कहा- अमेरिका 2016 के लिए तय 255 मिलियन डॉलर विदेशी सैन्य मदद (Foreign Military Financing) पाकिस्तान को जारी नहीं करेगा।इस अफसर ने आगे कहा- प्रेडिडेंट डोनाल्ड ट्रम्प पहले ही साफ कर चुके हैं कि पाकिस्तान को अपनी जमीन पर मौजूद आतंकी पनाहगाहों के खिलाफ नतीजे देने वाली करनी होगी।

हमारी साउथ एशिया पॉलिसी के हिसाब से पाकिस्तान को एक्शन लेना होगा। यही अमेरिका और पाकिस्तान के रिश्तों का मिजाज तय करेंगे। इसमें आने वाले वक्त की सिक्युरिटी असिस्टेंस यानी सुरक्षा मदद भी शामिल है।इस अफसर ने ये भी साफ कर दिया कि ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन पाकिस्तान द्वारा की जाने वाली कार्रवाई और उसकी तरफ से इस मामले में अमेरिका को दी जाने वाली मदद का रिव्यू जारी रखेगा। 

ट्रम्प फ्लोरिडा के मेर लागो में क्रिसमस और न्यू ईयर की छुट्टियां मनाकर सोमवार को ही व्हाइट हाउस लौटे हैं। कुछ रिपोर्ट्स ने उनसे पाकिस्तान के बारे में अमेरिकी स्ट्रैटेजी से जुड़े सवाल पूछने की कोशिश की थी। लेकिन, यूएस प्रेसिडेंट ने इनका कोई जवाब नहीं दिया था।

साल 2018 के पहले ही दिन ट्रम्प ने पाकिस्तान को सख्त वार्निंग दी थी। एक ट्वीट मे उन्होंने कहा था अमेरिका ने बेवकूफों की तरह पाकिस्तान को 15 साल के दौरान 33 बिलियन डॉलर ( करीब 2.14 लाख करोड़ रुपए) से ज्यादा की मदद की। और, उन्होंने हमें केवल झूठ और धोखा दिया। उन्होंने हमारे लीडर्स को बेवकूफ समझा।

उन्होंने उन आतंकवादियों को पनाह दी, जिन्हें हम अफगानिस्तान में तलाश कर रहे थे। ये अब और नहीं।पाकिस्तान सरकार ने कहा- अफगानिस्तान में अपनी नाकामियों का ठीकरा अमेरिका पाकिस्तान पर ना फोड़े। पाकिस्तान ने आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में बेमिसाल कुर्बानियां दी हैं। इस पर कोई शक नहीं है।

PAK आर्मी के स्पोक्सपर्सन आसिफ गफूर ने कहा था पाकिस्तान को यूएस से जो मदद मिलती है, वो उस मदद का मुआवजा है.जो इस्लामाबाद अल कायदा के खिलाफ लड़ी जा रही जंग में देता है।

Check Also

अमेरिका में ठंड से 11 की मौत

अमेरिका में कड़ाके की ठंड और बर्फबारी से 11 लोगों की मौत हो गई है। …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *