संयुक्त राष्ट्र में अमेरिकी दूत के तौर पर निक्की हेली पहली बार भारत दौरे पर आएँगी

संयुक्त राष्ट्र में अमेरिकी दूत के तौर पर निक्की हेली पहली बार भारत दौरे पर जा रही हैं. इस दो दिवसीय दौरे में वह वरिष्ठ भारतीय अधिकारियों , कारोबार क्षेत्र के दिग्गजों और छात्रों से मुलाकात करेंगी और देश के साथ अमेरिका की मजबूत साझेदारी को रेखांकित करेंगी.

 डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन में शीर्ष दर्जा रखने वाली भारतीय अमेरिकी निक्की और भारतीय अधिकारियों के बीच बातचीत के प्रमुख मुद्दों में भारत- अमेरिका रणनीतिक संबंध और महत्वपूर्ण वैश्विक घटनाक्रम शामिल होंगे.संयुक्त राष्ट्र में अमेरिकी मिशन की ओर से कल जारी मीडिया परामर्श में बताया गया कि निक्की 26 से 28 जून तक नई दिल्ली में रहेंगी.

इस दौरान वह अमेरिका के साझा मूल्यों और भारत के लोगों के साथ मजबूत रिश्ते को रेखांकित करने के लिए भारत सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों , गैर सरकारी संगठनों के प्रमुखों , विभिन्न धार्मिक समुदायों से मुलाकात करेंगी.मीडिया परामर्श में 46 वर्षीय राजनयिक के दौरे के बारे में विस्तृत जानकारी नहीं दी गई.

हालांकि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने जा सकती हैं और विदेश मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों से भी मुलाकात कर सकती हैं.ट्रंप प्रशासन अपनी इंडो पैसिफिक रणनीति के तहत भारत के साथ अपने संबंधों को बढ़ाने का इच्छुक है और साथ में अपने सहायता कार्यक्रमों के जरिए अफगानिस्तान को स्थिर बनाने में मदद करना चाहता है.

हेली के पिता अजीत सिंह रंधावा और मां राज कौर रंधावा अमृतसर से अमेरिका जाकर बस गए थे. हेली आखिरी बार 2013 में भारत आईं थीं, वह उस समय साउथ कैरोलिना की गवर्नर थीं.अमेरिकी सीनेट ने संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका की अगली राजदूत के रूप में निकी हेली के नाम पर मुहर लगा दी थी.

इस तरह वह अमेरिका के किसी भी राष्ट्रपति के प्रशासन में केबिनेट रैंक का पद हासिल करने वाली पहली भारतीय-अमेरिकी बन गई थी. इसके साथ ही 45 वर्षीय हेली ऐसी पहली भारतीय-अमेरिकी बन गई थी, जो राष्ट्रपति प्रशासन में केबिनेट स्तर के पद पर अपनी सेवाएं दे रही थी.

सीनेट में हेली के नाम को 96-4 मतों के अंतर से मंजूरी दी गई थी.संयुक्त राष्ट्र में समांथा पावर की जगह लेने जा रही हेली पहले भी इतिहास रच चुकी हैं. वह किसी अमेरिकी राज्य की पहली भारतीय-अमेरिकी महिला गवर्नर थी. बॉबी जिंदल के बाद, वह दूसरी ऐसी भारतीय-अमेरिकी हैं, जिन्हें किसी राज्य का गवर्नर चुना गया था.

Check Also

अमेरिका के मैरीलैंड में अखबार के दफ्तर में गोलीबारी चलने से 5 की मौत

अमेरिका में मेरीलैंड में एक अखबार कैपिटल गजट के न्यूजरूम में बंदूकधारी ने अंधाधुंध गोलीबारी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *