Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

Tag Archives: देवी

Refreshed through Worship । जाने पूजा में क्यों होता है संकल्प का विधान

Refreshed through Worship : देवी देवताओं के इस देश में पूजा पाठ, कर्म कांड जैसे कई धार्मिक आयोजन रोज किए जाते है। देवी देवताओं का हमारे समाज में उच्च स्थान है। जो भी भक्त सच्चे मन से देवी देवताओं के दर्शन करता है, ईश्वर उसकी अराधना अवश्य सुनते है। पूजा पाठ, दान पूण्य करने से हमारे शरीर में सकारात्मक उर्जा …

Read More »

Sita ji ke Mantra । सीता जी के मंत्र

सीता जी हिन्दू धर्म की देवी है। मान्यता है कि सीता जी साक्षात लक्ष्मी जी का ही अवतार हैं। पतिव्रता स्त्रियों में इनका स्थान सर्वोच्च माना गया है। श्री राम को सीता जी का अद्धिष्ठात देव माना जाता है। सीता जी की पूजा के दौरान इन मंत्रों का उच्चारण करके उन्हें प्रसन्न करें। सीता जी के मंत्र सभी दुखों की …

Read More »

Laxmi mata Mantra । मां लक्ष्मी के मंत्र

देवी लक्ष्मी को धन और समृद्धि की देवी माना जाता है। आज के युग में बिना धन-वैभव मनुष्य का जीवन अधूरा होता है। देवी लक्ष्मी जी को प्रसन्न करने के कुछ आसान मंत्र निम्न हैं। मां लक्ष्मी के मंत्र (Laxmi Mata Mantra in Hindi) मां लक्ष्मी की पूजा के दौरान इस मंत्र के द्वारा उन्हें रक्तचन्दन समर्पण करना चाहिए- रक्तचन्दनसम्मिश्रं …

Read More »

Parvati ji ke mantra । पार्वती जी के मंत्र

पार्वती जी हिन्दू धर्म की देवी हैं। इन्हें आदि शक्ति भी कहा जाता है। देवी पार्वती बहुत दयालु और करुणामयी मानी जाती हैं इनकी आराधना से सभी मनोरथ पूर्ण होते हैं। पार्वती जी की पूजा-अर्चना करते समय निम्न मंत्रों का उच्चारण करना चाहिए। पार्वती जी के मंत्र पार्वती जी की पूजा करते समय प्रसन्न करने के लिए इस मंत्र का …

Read More »

Vaishno Devi Mantra । वैष्णो देवी के मंत्र

वैष्णो देवी हिन्दू धर्म की एक मुख्य देवी हैं। मान्यता है कि पहाड़ों पर बसने वाली मां वैष्णो देवी की साधना से सभी मनोरथ पूर्ण होते हैं। वैष्णो देवी की पूजा-अर्चना में निम्न मंत्रों का प्रयोग होता है, वैष्णो देवी के मंत्र (Vaishno Devi Mantra in Hindi) इस मंत्र का उच्चारण करते हुए माता वैष्णो देवी को पाद्य(जल) समर्पण करना …

Read More »

विन्ध्येश्वरी माता की आरती

विन्ध्येश्वरी माता की आरती सुन मेरी देवी पर्वत वासिनी तेरा पार न पाया॥ टेक॥ पान सुपारी ध्वजा नारियल ले तरी भेंट चढ़ाया। सुवा चोली तेरे अंग विराजे केसर तिलक लगाया। नंगे पग अकबर आया सोने का छत्र चढ़ाया। सुन॥ उँचे उँचे पर्वत भयो दिवालो नीचे शहर बसाया। कलियुग द्वापर त्रेता मध्ये कलियुग राज सबाया॥ धूप दीप नैवेद्य आरती मोहन भोग …

Read More »

श्री संतोषी माता आरती

संतोषी माता हिन्दूओं की एक अहम देवी मानी जाती हैं। मान्यता है कि संतोषी माता की उपासना से जातकों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती है। संतोषी माता को प्रसन्न करने के लिए निम्न आरती का पाठ किया जाता है। संतोषी माता आरती (Shri Santoshi Mata Ji Ki Aarti) जय संतोषी माता, मैया जय संतोषी माता । अपने सेवक जन को, …

Read More »