Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

Tag Archives: ज्ञान

आज वसंत पंचमी का त्यौहार है

भारत की सर्वाधिक प्राचीन और सशक्त परम्परा है. प्रेम, उमंग, उत्साह, बुद्धि और ज्ञान के समन्वय के इस रंग-बिरंगे पर्व का अभिनंदन प्रकृति अपने समस्त श्रृंगार के साथ करती है.ऋतुराज वसंत के स्वागत में प्रकृति का समूचा सौंदर्य निखर उठता है, समूची प्रकृति जीवंत हो जाती है. इस पर्व को सद्ज्ञान की अधिष्ठात्री मां सरस्वती के जन्मोत्सव के रूप में …

Read More »

The Behavioral Aspects of Poverty । गरीबी दूर भगाने के लिए करें 10 काम जानें

The Behavioral Aspects of Poverty : कुछ लोग नियमित पूजा-पाठ करते हैं, फिर भी धन के मामले में दुखी ही रहते हैं। धन का सुख मिलेगा या नहीं, ये बात पुराने कर्मों के साथ ही वर्तमान के कर्मों पर भी निर्भर करती है। यदि हम दरिद्रता से मुक्त होना चाहते हैं तो शास्त्रों के अनुसार वर्जित किए गए काम नहीं …

Read More »

Budhvar Vrat Vidhi बुधवार व्रत विधि

Budhvar Vrat Vidhi बुधवार व्रत विधि बुधवार का व्रत बुध ग्रह को शांत करने के लिए विशेष फलदायी माना जाता है। ज्ञान, कार्य, बुद्धि, व्यापार आदि में प्रगति के लिए बुधवार व्रत बेहद शुभ और फलदायी माना जाता है। बुधवार के दिन कई जगह बुद्ध देव के साथ भगवान गणेश की पूजा का भी विधान है। बुधवार व्रत विधि (Budhvar …

Read More »

Goddess gayatri Mantra । मां गायत्री मंत्र

माता गायत्री शक्ति, ज्ञान, पवित्रता तथा सदाचार का प्रतीक मानी जाती है। मान्यता है कि गायत्री मां की अराधना करने से जीवन में सूख-समृद्धि, दया-भाव, आदार-भाव आदि की विभूती होती हैं। माता गायत्री जी के कुछ मंत्र निम्न हैं: माता गायत्री के मंत्र (Mantra of Mata Gayatri in Hindi) मां गायत्री की पूजा के दौरान इस मंत्र को पढ़ते हुए …

Read More »

What is Buddhism – बौद्ध धर्म क्या है?

बौद्ध-दीक्षा का मंत्र बुद्धं सरणं गच्छामि : मैं बुद्ध की शरण लेता हूँ। धम्मं सरणं गच्छामि : मैं धर्म की शरण लेता हूँ। संघं सरणं गच्छामि : मैं संघ की शरण लेता हूँ। बौद्ध धर्म क्या है? यो च बुद्धं च धम्मं च संघं च सरणं गतो। चत्तारि अरिय सच्चानि सम्मप्पञ्ञाय पस्सति॥ दुक्खं दुक्खसमुप्पादं दुक्खस्स च अतिक्कमं। अरियं चट्ठगिंकं मग्गं …

Read More »