बीसीसीआई के पूर्व अध्यक्ष शशांक मनोहर फिर चुने गए आईसीसी के चेयरमैन

शशांक मनोहर को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) का फिर से स्वतंत्र चेयरमैन चुन लिया गया है. उन्हें दूसरे कार्यकाल के लिये निर्विरोध निर्वाचित किया गया. मनोहर को 2016 में पहली बार आईसीसी का स्वतंत्र चेयरमैन चुना गया था और अब निर्विरोध निर्वाचित होने के बाद वह अगले दो साल तक इस पद पर बने रहेंगे. 

चुनाव प्रक्रिया के अनुसार आईसीसी निदेशकों में से प्रत्येक को एक उम्मीदवार को नामित करने की अनुमति होती है. उम्मीदवार वर्तमान या पूर्व आईसीसी निदेशक होना चाहिए. जिस नामित को दो या इससे अधिक निदेशकों का समर्थन मिलता है वह चुनाव लड़ने के योग्य माना जाता है.

लेकिन मनोहर के मामले में वह नामित किये जाने वाले अकेले उम्मीदवार थे और चुनाव प्रक्रिया को देख रहे ऑडिट कमेटी के चेयरमैन एडवर्ड क्विनलैन ने प्रक्रिया पूर्ण होने और मनोहर के सफल उम्मीदवार होने की घोषणा की. 

मनोहर का दूसरे कार्यकाल के लिये चुना जाना पिछले महीने कोलकाता में आईसीसी की तिमाही बैठक में ही तय हो गया था क्योंकि उनकी उम्मीदवारी का किसी ने विरोध नहीं किया था. पिछले दो वर्षों में मनोहर ने खेल में कई महत्वपूर्ण सुधार किये.

उन्होंने 2014 के प्रस्ताव को पलट दिया था. संशोधित शासन ढांचा लागू किया जिसमें आईसीसी की पहली स्वतंत्र महिला निदेशक की नियुक्ति भी शामिल है.मनोहर ने कहा अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद का फिर से चेयरमैन चुना जाना सम्मान है तथा मैं अपने सहयोगी आईसीसी निदेशकों का उनके समर्थन के लिये आभार व्यक्त करता हूं.

पिछले दो वर्षों में हमने मिलकर आगे कदम बढ़ाये हैं और मैंने 2016 में नियुक्ति के समय जो वादे किये थे उन्हें पूरा किया है.मनोहर ने कहा कि आईसीसी की योजना खेल के लिये वैश्विक रणनीति तैयार करने की है. उन्होंने कहा अगले दो वर्षों में हम अपने सदस्यों की भागीदारी से खेल के लिये वैश्विक रणनीति जारी करने पर ध्यान दे सकते हैं.

जिससे हम खेल को आगे बढ़ा सके और यह सुनिश्चित कर सकें कि दुनिया के अधिक से अधिक लोग क्रिकेट का लुत्फ उठाएं. खेल बहुत अच्छी स्थिति में है लेकिन हम इसके अभिभावक हैं और हमें इसे बरकरार रखने के लिये कड़ी मेहनत जारी रखनी होगी.

उल्लेखनीय है कि इससे पहले खबर थी कि कि नागपुर के रहने वाले मनोहर चुनाव नहीं लड़ना चाहते हैं और अगर उन्हें सर्वसम्मति से चुना जाता है तो तभी अपना दो साल का कार्यकाल पूरा करेंगे. मनोहर ने अपने करियर में क्रिकेट प्रशासक के रूप में कभी किसी तरह का चुनाव नहीं लड़ा. वह विदर्भ क्रिकेट संघ और बीसीसीआई (दो बार) के अध्यक्ष रहे, लेकिन हर बार उन्हें सर्वसम्मति से चुना गया.

इसके अलावा शशांक मनोहर पिछले साल मार्च में आईसीसी के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे चुके हैं. उस समय मनोहर ने निजी कारण बताते हुए अपने पद से इस्तीफा दिया था लेकिन उनसे बाद में कहा गया कि वे इस्तीफा वापस ले लें और उन्होंने इस्तीफा वापस भी ले लिया था. 

Check Also

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने क्रिकेटर मोहम्मद हफीज को जारी किया कारण बताओ नोटिस

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने अनुभवी हरफनमौला खिलाड़ी मोहम्मद हफीज को कारण बताओ नोटिस जारी किया …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *