How You Can Prevent Sexually Transmitted Diseases । संबंध बनाने से आप कई बिमारियों से बच सकते है जाने कैसे

How You Can Prevent Sexually Transmitted Diseases :- सेक्स आम जिंदगी का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा हैl इसके बिना आपकी लाइफ अधूरी हैl सेक्स एक ऐसा विषय है जिसके बारे में कोई भी हो सभी उत्सुक रहते हैंl वैसे भी जिस प्रकार जीवन व्यतित करने के लिए आज हर किसी को भोजन, हवा, पानी आदि की जरूरी होती है, ठीक उसी तरह सेक्स भी बहुत ही जरूरी हैl

सेक्स की जानकारी होना जरुरी है :- बोला जाता है अधूरा ज्ञान अच्छा नहीं होता, पर ये देखा गया है कि ज्यादातर लोगों के पास सेक्स की प्रयाप्त जानकारी नहीं हैl सेक्स के बारे में जानकारी न होने के कारण एक छोटी सी गलती किसी पर भी पहाड़ की तरह भारी पड़ सकती हैl पूर्ण जानकारी के न होने से बहुत लोग गलत तरह के झांसे में आकर अपना पैसा़, समय और जीवन तक बर्बाद कर बैठते हैंl

चाहें पुरुष हो या महिला हर किसी को सेक्स से जुड़ी कुछ जानकारी होना आज बेहद आवश्यक ही नहीं बल्कि जरूरत हैl कुछ चीजों की जानकारी इसलिए भी जरुरी है क्योंकि इन जानकारियों के चलते हम काफी हद तक जीवन में आने वाली विपरीत परिस्थिति को होने से रोक सकते हैl

सेक्स के दौरान जब पुरुष का लिंग पूरी तरह उत्तेजित अवस्था में होता है तो उस समय लिंग के मूत्रमार्ग से द्रव की कुछ बूंदे निकलती हैं जिन्हें बहुत से लोग वीर्य समझने की भूल कर लेते हैं लेकिन यह वीर्य न होकर सिर्फ कुछ ग्रंथियों का रस होता हैl

हस्तमैथुन से नहीं होती शारीरिक या मानसिक परेशानी :- एक सर्वे के मुताबिक़ बहुत से लोगों को हस्तमैथुन (हैंड प्रैक्टिस) करने की आदत होती होती है जिसे वह बहुत बड़ा रोग समझ लेते हैंl इतना ही नहीं हस्तमैथुन की आदत से परेशान कुछ लोग तो ये तक सोच लेते है कि इस आदत के कारण उन्हें शादी के बाद कई तरह की परेशानियां पैदा हो सकती हैंl

लेकिन हम आपको बता दे कि असल में हस्तमैथुन किसी प्रकार का रोग नहीं है और न ही इससे किसी प्रकार की शारीरिक या मानसिक परेशानी होती हैl किशोरावस्था में यौन ग्रंथियों की परिपक्वता यौन तनाव को जन्म देती है। इसी यौन तनाव को दूर करने के लिए किशोरों या युवाओं को जब कोई दूसरा रास्ता नजर नहीं आता तो उनको यौन तनाव को दूर करने के लिए हस्तमैथुन करने का तरीका ही सबसे बेहतर लगता हैlलेकिन आपको यह जानना अत्यंत आवश्यक है कि अगर इसे रोजाना किया जाए तो जरूर कई तरह के शारीरिक और मानसिक विकार पैदा हो सकते हैंl

स्वप्नदोष होता है पूर्ण परिपक्वता के कारण :- कुछ लोगों को रात को सोते समय नींद में ही वीर्यपात होने की शिकायत होती है जिसको स्वप्नदोष कहा जाता हैl अक्सर युवक इसे भी बहुत बड़ा रोग मानते हुए सोचते है कि शादी करने के बाद इस परेशानी के कारण वह सफल सेक्स करने में कामयाब नहीं होंगेl

आपको बता दे कि वीर्य के शरीर में बनने की क्रिया लड़के की किशोरावस्था से ही शुरू हो जाती है, जिससे स्वप्नदोष भी युवावस्था में यौन-ग्रंथियों की पूर्ण परिपक्वता के कारण होता हैl

आपको यह जानना भी आवश्यक है कि शादी करने से पहले जब तक लड़का किसी लड़की के साथ सेक्स संबंध नहीं बनाता तो इस वीर्य का निकलना संभव नहीं होता है इसी कारण कुछ लोगों का यह वीर्य स्वप्नदोष के माध्यम से बाहर निकल जाता हैl शरीर के बढ़ने के क्रम में स्वप्नदोष एक सहज और स्वाभाविक प्रक्रिया हैl लेकिन स्वप्नदोष अगर महीने में 3-4 बार हो तो यह एक सामान्य क्रिया है लेकिन इससे ज्यादा हो तो यह परेशानी पैदा कर सकता हैl

शीघ्रपतन नहीं होती  कोई कमजोरी :- विशेषज्ञयों ने ये बताया है कि यदि किसी पुरुष का वीर्य संभोग के समय जल्दी निकल जाता है जिसे हम शीघ्रपतन कहते है, तो वह उसे अपनी सबसे बड़ी कमजोरी समझ लेता है लेकिन यह कोई ऐसी कमजोरी नहीं है जिसको दूर न किया जा सकेl शीघ्रपतन की चिकित्सा करवाने के साथ-साथ इससे ग्रस्त व्यक्ति को आत्मिक संयम तथा यौन विशेषज्ञ की सलाह लेना भी बहुत लाभ करता हैl

डॉक्टर्स के मुताबिक़ स्त्री को गर्भ ठहराने में सबसे अहम बात यह होती है कि पुरुष के वीर्य में मौजूद शुक्राणुओं की संख्या पूरी हो और वह बिल्कुल स्वस्थ और गतिशील अवस्था में होl जिन व्यक्तियों का वीर्य पतला और पानी जैसा होता है उनको वीर्य विकार का रोग होता हैl आपको यह जानना जरुरी है कि ऐसे लोगों के वीर्य में शुक्राणुओं की संख्या बहुत कम होती है और शुक्राणुगतिशील अवस्था में भी नहीं होते। ऐसे व्यक्ति संतान पैदा करने में पूरी तरह सक्षम नहीं होते हैंl

एक बार के स्खलन में कितने शुक्राणु बाहर निकलते हैं इसका अभी तक पूरी तरह से अंदाजा नहीं लगाया गया है लेकिन फिर भी अनुमानों के मुताबिक एक बार के स्खलन में लगभग 60 से 150 मिलियन तक शुक्राणु निकलते हैंl परन्तु डॉक्टर्स के मुताबिक़ पुरुष के एक बार स्खलित होने पर लगभग 2 से 5 मिलीलीटर की मात्रा में वीर्य बाहर निकलता हैl

स्त्री के मासिकधर्म की तारीख से बच्चे के जन्म का पता लगाया जा सकता है :- देखा गया है की माता-पिता अपने बच्चे के पैदा होने की असल तारीख जानने के लिए उत्सुक रहते हैं, अब आप भी जान सकते है वे तारीखl स्त्री के बच्चे को जन्म देने की तारीख पता करने के लिए उसके पिछले बार आए हुए मासिकधर्म की तारीख से 3 महीने और पीछे जाकर उसमें 7 दिन और जोड़ दें जैसे अगर गर्भवती स्त्री को आखिरी बार मासिकधर्म 20 जनवरी को हुआ हो तो उससे 3 महीने पीछे जाने पर 20 अक्टूबर आता है। इसके बाद इसमें 7 दिन और जोड़ने पर 27 अक्टूबर आ जाता है। इसी अगले आने वाले 27 अक्टूबर को स्त्री के द्वारा बच्चे को जन्म देने की तारीख माना जाएगा। इस तिथि से 2-4 दिन ऊपर-नीचे हो सकते हैंl

भोजन करने के 2 घंटे के बाद करना चाहिए सेक्स :- कुछ लोग जैसे ही रात का भोजन करते हैं उसके तुरंत बाद ही वह संभोग करने लग जाते हैं लेकिन आपको पता होना चाहिए कि यह बात बिल्कुल ही सही नहीं हैl भोजन करने और संभोग करने के बीच में कम से कम 2 घंटे का अंतर होना इसलिए जरुरी है क्य़ोंकि भोजन करने के बाद ज्यादातर खून और शक्ति भोजन को पचाने के लिए आमाशय की ओर चला जाता है, जिसके चलते अगर भोजन करने के तुरंत बाद संभोग करने से इस खून और शक्ति को कामेन्द्रियों में आना होगा तो भोजन को पचाने की क्रिया ठीक तरह से नहीं हो पाएगीl

भोजन करने के दो घंटे के बाद भोजन आमाशय से निकलकर ऐसी अवस्था में आ जाता है कि उसे ज्यादा खून की जरूरत नहीं रहती हैl  इसी कारण सबको पता होना जरुरी है कि भोजन करने के कम से कम 2 घंटे के बाद ही संभोग करना चाहिएlइस बात की भी पुष्टि करनी चाहिए कि अगर स्त्री का मासिकधर्म अनियमित हो, उसे श्वेतप्रदर आने का रोग हो, गर्भाशय टेढ़ा हो या उसे खुजली आदि हो तो उसके ठीक होने तक उसके साथ संभोग नहीं करना चाहिएl

दूध पिलाने वाली स्त्री के साथ सेक्स नहीं करना चाहिए :- आपको बता दें कि बच्चे को दूध पिलाने वाली स्त्री के साथ संभोग नहीं करना चाहिए क्योंकि अगर उसे गर्भ ठहर जाता है तो उसका दूध दूषित हो जाता है और जिसको पीने से बच्चे का स्वास्थ्य खराब हो सकता हैl

Check Also

राशि द्वारा जानिये अपने पार्टनर का स्वभाव Know Your Partner Behaviour By Astrology

राशि द्वारा जानिये अपने पार्टनर का स्वभाव Know Your Partner Behaviour By Astrology (ये भी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *