प्रद्युम्न मर्डर केस में आरोपी बस कंडक्टर का होगा DNA टेस्ट

प्रद्युम्न मर्डर केस में गिरफ्तार बस कंडक्टर अशोक कुमार का डीएनए टेस्ट कराया जाएगा. आरोपी अशोक के ब्लड और सीमन सैंपल जांच के लिए मधुबन फोरेंसिक लैब भेजे गए हैं. इसके साथ ही आरोपी और मृतक के कपड़े की जांच भी फोरेंसिक लैब होगी. इस तरह फोरेंसिक लैब से आने वाली रिपोर्ट कई रहस्यों से पर्दा उठा देगी.

जानकारी के मुताबिक, वारदात से से ठीक पहले आरोपी कंडक्टर अशोक स्कूल के टॉयलेट में हस्तमैथुन कर रहा था. इससे पहले ताइक्वांडो के तीन स्टूडेंट्स और माली वहां गए थे. उनके जाने के बाद आरोपी फिर से वही हरकत कर रहा था. तभी प्रद्युम्न ठाकुर वहां पहुंच गया. अशोक ने उसे टॉयलेट में खींच लिया. उसके साथ गलत काम करने की कोशिश कर रहा था.

इसके बाद प्रद्युम्न शोर मचाने लगा. विरोध करने लगा. इससे घबराकर अशोक ने चाकू निकाला और बच्चे की गर्दन पर एक के बाद एक, दो वार किए. इससे प्रद्युम्न की गर्दन से खून की धारा फूट पड़ी. इस दौरान खून के कुछ धब्बे अशोक के ऊपर भी आ गए. वह टॉयलेट से बाहर निकल गया. तभी कुछ छात्र आए और उन्होंने उसे देखा तो शोर मचा दिया.

तकरीबन आधे घंटे तक आरोपी अशोक कुमार खून से सने कपड़ों में घूमता रहा. इस मामले के दूसरे गवाह सुभाष ने अशोक को कपड़े धोने से मना किया. उसने अशोक से कहा था कि सबूतों से छेड़छाड़ न हो, लेकिन फिर भी अशोक ने अपने कपड़े धो दिए थे. सुभाष उसी बस का ड्राइवर है, जिस पर अशोक कंडक्टर था. उसने अशोक को खून से सने कपड़ों में देखा था.

बताते चलें कि रेयान इंटरनेशनल स्कूल में बीते शुक्रवार को दूसरी क्लास में पढ़ने वाले सात साल के प्रद्युम्न के साथ कुकर्म की कोशिश करने के बाद उसकी गला रेतकर बेरहमी से हत्या कर दी गई थी. इस मामले में बस कंडक्टर अशोक समेत तीन लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. पुलिस द्वारा पूछताछ में आरोपी अशोक कुमार ने अपना जुर्म कबूल कर लिया था.

Check Also

गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए बीजेपी ने किया पहली लिस्ट में 70 कैंडिडेट्स के नामों का एलान

गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए बीजेपी ने पहली लिस्ट में 70 कैंडिडेट्स के नामों का …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *