Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

आर्मी को मिलेंगे सबसे बेहतरीन 6 अपाचे अटैक हेलिकॉप्टर

आर्मी के लिए 6 अपाचे अटैक हेलिकॉप्टर खरीदने के प्रप्रोजल को मंजूरी दे दी। इन हेलिकॉप्टर्स को अमेरिकी कंपनी बोइंग बनाती है और इन्हें दुनिया के सबसे बेहतरीन अटैक हेलिकॉप्टर माना जाता है। अपाचे हेलिकॉप्टर की एक बड़ी खासियत ये है कि ये रात और बेहद खराब मौसम में भी बिना किसी रुकावट या परेशानी के अपने टारगेट को हिट कर सकते हैं।

डिफेंस पर्चेस क्लियर करने वाली डिफेंस अक्वजिशन काउंसिल यानी डीएसी की मीटिंग दिल्ली में हुई। मीटिंग में तमाम आला अफसरों के साथ ही डिफेंस और फाइनेंस मिनिस्टर अरुण जेटली भी शामिल हुए।डीएसी की इसी मीटिंग में अपाचे अटैक हेलिकॉप्टर खरीदने की मंजूरी दी गई। इसके अलावा, नेवी के लिए दो शिप के इंजन खरीदने के लिए भी मंजूरी दी गई। इस पर 490 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे।

इंडियन आर्मी लंबे वक्त से अपने लिए अटैक हेलिकॉप्टर्स की तीन स्क्वॉड्रन की मांग कर रही है। आर्मी का कहना है कि इनके मिलने से वो जरूरत पड़ने पर दुश्मन के इलाके में पूरी ताकत और काबिलियत से हमला कर सकती है।आर्मी का ये भी कहना है कि उसे अपने इस बेड़े पर पूरा कंट्रोल मिलना चाहिए। ताकि, वो जहां चाहे इनकी तैनाती कर सके।

आर्मी के मुताबिक, एयरफोर्स को इस मामले में बड़े काम (larger strategic role) लेने पर ही फोकस करना चाहिए।फिलहाल, एयरफोर्स के पास रूस में बने Mi-25/35 अटैक हेलिकॉप्टर की दो स्क्वॉड्रन हैं। लेकिन, अब ये पुराने हो गए हैं।पिछले साल रूस के प्रेसिडेंट व्लादिमीर पुतिन भारत आए थे। गोवा में उनकी नरेंद्र मोदी से मुलाकात के दौरान चार हजार टन वजनी ग्रिगोरीविच क्लास गाइडेड मिसाइल स्टील्थ फ्रिगेट खरीदने पर सहमति बनी थी। इसकी कीमत करीब चार बिलियन डॉलर है। 

इस फ्रिगेट के दो शिप रूस के यांतर शिप में तैयार किए जा रहे हैं। लेकिन, इसी दौरान कुछ दिक्कत आई। रूस और यूक्रेन के रिश्ते खराब हो गए। इसके बाद इसी फ्रिगेट के दो और शिप बनाने का काम गोवा शिपयार्ड में शुरू किया गया।अब भारत यूक्रेन से इन शिपों में लगने वाले इंजन खरीदेगा। फिर इन्हें रूस भेजा जाएगा ताकि फ्रिगेट तैयार हो सकें।अपाचे को यूएस आर्मी के एडवांस्‍ड अटैक हेलीकॉप्‍टर प्रोग्राम के लिए डेवलप किया गया था।

इसने पहली उड़ान 30 सितंबर 1975 को भरी थी। अप्रैल 1986 में अपाचे को यूएस आर्मी में शामिल किया गया था। हालांकि, तब ये इतने मॉर्डन नहीं थे, जितने आज हैं। फिलहाल, अपाचे को दुनिया का सबसे खतरनाक अटैक हेलिकॉप्टर माना जाता है।आज ये हेलीकॉप्टर यूएस आर्मी के अलावा इजरायल, मिस्र और नीदरलैंड की आर्मी भी इस्तेमाल करती है। भारत सिर्फ पांचवा ऐसा देश है, जिसके पास अपाचे होंगे।

इस हेलीकॉप्टर के दोनों तरफ 30 एमएम गन लगी हुई है। इसमें फिट सेंसर दुश्‍मनों को आसानी से तलाश कर उन्‍हें खत्‍म कर सकता है। नाइट विजन सिस्‍टम भी इंस्‍टॉल हैं। इसमें हेलिफायर और स्ट्रिंगर मिसाइलें लगाई गई हैं। जो बिना भटके और राडार की पकड़ में आए दुश्मन के टारगेट को हिट कर सकती हैं।अपाचे में दो टर्बोसॉफ्ट इंजन लगाए गए हैं। अमेरिका इराक और अफगानिस्तान में इनका इस्तेमाल कर चुका है।

Check Also

मप्र में छापों में हुआ 230 करोड़ के बेनामी लेनदेन का भी खुलासा

मध्यप्रदेश में आयकर विभाग की छापे की कार्रवाई में 281 करोड़ रु. के बेहिसाबी कैश …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *