Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

Know about India’s 33 Heritage Sites । जानिए भारत की 33 हेरिटेज साइट्स के बारे में

Know about India’s 32 Heritage Sites  :- 18 अप्रैल को पूरे विश्व में विश्व धरोहर दिवस मनाया जाता है। इस दिवस को मनाने का मुख्य उद्देश्य भी यह है कि पूरे विश्व में मानव सभ्यता से जुड़े ऐतिहासिक और सांस्कृतिक स्थलों के संरक्षण के प्रति जागरूकता लाइ जा सके। धरोहर अर्थात मानवता के लिए अत्यंत महत्व की जगह, जो आगे आने वाली पीढि़यों के लिए बचाकर रखी जाएँ, उन्हें विश्व धरोहर स्थल के रूप में जाना जाता है।

ऐसे महत्वपूर्ण स्थलों के संरक्षण की पहल संयुक्त राष्ट्र की संस्था यूनेस्को (UNESCO) ने की थी। जिसके बाद एक अंतर्राष्ट्रीय संधि जो कि विश्व सांस्कृतिक और प्राकृतिक धरोहर संरक्षण की बात करती है को 1972 में लागू की गई। तब विश्व भर के धरोहर स्थलों को मुख्यतः तीन श्रेणियों में शामिल किया गया।

पहला प्राकृतिक धरोहर स्थल, दूसरा सांस्कृतिक धरोहर स्थल और तीसरा मिश्रित धरोहर स्थल।इनके बारे में हम आगे बात करेंगे। लेकिन पहले यह जानलें कि विश्व धरोहर दिवस की शुरुआत कब हुई। विश्व धरोहर दिवस की शुरुआत 18 अप्रैल 1982 को हुई थी जब इकोमास संस्था ने टयूनिशिया में अंतरराष्ट्रीय स्मारक और स्थल दिवस का आयोजन किया।

इस कार्यक्रम में कहा गया कि दुनियाभर में समानांतर रूप से इस दिवस का आयोजन होना चाहिए। इस विचार का यूनेस्को के महासम्मेलन में भी अनुमोदन कर दिया गया और नवम्बर 1983 से 18 अप्रैल को विश्व धरोहर दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की गई। इससे पहले हर साल 18 अप्रैल को विश्व स्मारक और पुरातत्व स्थल दिवस के रुप में मनाया जाता था।

आगरा का किला :-

आगरा का किला यूनेस्को द्वारा घोषित विश्व धरोहर स्थल है। यह किला भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के आगरा शहर में स्थित है। इसके लगभग 2.5 किलोमीटर उत्तर-पश्चिम में ही विश्व प्रसिद्ध स्मारक ताज महल मौजूद है।यह भारत का सबसे महत्वपूर्ण किला है।

भारत के मुगल सम्राट बाबर, हुमायुं, अकबर, जहांगीर, शाहजहां व औरंगज़ेब यहां रहा करते थे, व यहीं से पूरे भारत पर शासन किया करते थे। यहां राज्य का सर्वाधिक खजाना, सम्पत्ति व टकसाल थी। यहाँ विदेशी राजदूत, यात्री व उच्च पदस्थ लोगों का आना जाना लगा रहता था, जिन्होंने भारत के इतिहास को रचा।

Check Also

अयोध्या विवाद: राम मंदिर-बाबरी मस्जिद विवाद कब-कब क्या हुआ?

अयोध्या विवाद: राम मंदिर-बाबरी मस्जिद विवाद कब-कब क्या हुआ? रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद – जानिए अब …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *