स्मगलिंग का सच!

हर बार पप्पू बेवकूफ नहीं होता।

एक बार पप्पू ने किसी स्मगलिंग गैंग से हाथ मिलाया….

और पप्पू गैंग में शामिल हो गया…

तो पप्पू मोटरसाइकिल से भारत-पाक बॉर्डर पार कर रहा था। गाड़ी पर एक बोरी बंधी थी।

अधिकारी ने उसे रोका।

अधिकारी – कहां जा रहे हो?

पप्पू – पाकिस्तान।

अधिकारी – क्या करते हो?

पप्पू – स्मगलिंग।

अधिकारी – क्या बकवास कर रहे हो? क्या है इस बोरी में?

पप्पू – आप खुद ही देख लीजिए।

अधिकारी बोरी खोलकर देखता है तो उसमें रेत निकलती है।

अधिकारी सोचता है कि पप्पू मजाक कर रहा है, इसलिए उसे जाने देता है। ऐसा सालभर तक होता रहता है। पप्पू हर हफ्ते मोटरसाइकिल पर रेत की बोरी लेकर बॉर्डर पार करता और अधिकारी उसे जाने देता।

एक दिन अधिकारी ने उसे फिर रोका।

अधिकारी- सच-सच बताओ कि तुम क्या करते हो?

पप्पू – जी बताया तो था, स्मगलिंग।

अधिकारी- किस चीज की स्मगलिंग? . . .

पप्पू -जी मोटरसाइकिलों की!

अधिकारी सीधे कोमा में..

और पप्पू मुस्कुराते हुए वहां से चल दिया..।

Check Also

पप्पू की प्रेमकथा!

पप्पू अपने दोस्त बंटी से अपनी नयी बनी गर्लफ्रेंड की तारीफ़ कर रहा था। पप्पू: …