Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

स्मगलिंग का सच!

हर बार पप्पू बेवकूफ नहीं होता।

एक बार पप्पू ने किसी स्मगलिंग गैंग से हाथ मिलाया….

और पप्पू गैंग में शामिल हो गया…

तो पप्पू मोटरसाइकिल से भारत-पाक बॉर्डर पार कर रहा था। गाड़ी पर एक बोरी बंधी थी।

अधिकारी ने उसे रोका।

अधिकारी – कहां जा रहे हो?

पप्पू – पाकिस्तान।

अधिकारी – क्या करते हो?

पप्पू – स्मगलिंग।

अधिकारी – क्या बकवास कर रहे हो? क्या है इस बोरी में?

पप्पू – आप खुद ही देख लीजिए।

अधिकारी बोरी खोलकर देखता है तो उसमें रेत निकलती है।

अधिकारी सोचता है कि पप्पू मजाक कर रहा है, इसलिए उसे जाने देता है। ऐसा सालभर तक होता रहता है। पप्पू हर हफ्ते मोटरसाइकिल पर रेत की बोरी लेकर बॉर्डर पार करता और अधिकारी उसे जाने देता।

एक दिन अधिकारी ने उसे फिर रोका।

अधिकारी- सच-सच बताओ कि तुम क्या करते हो?

पप्पू – जी बताया तो था, स्मगलिंग।

अधिकारी- किस चीज की स्मगलिंग? . . .

पप्पू -जी मोटरसाइकिलों की!

अधिकारी सीधे कोमा में..

और पप्पू मुस्कुराते हुए वहां से चल दिया..।

Check Also

सब रिश्ते टूट गए!

परीक्षा के परिणाम आने से कुछ दिन पहले संता ने अपने बेटे पप्पू को बुलाया …