Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

4 नंबर और हम!

4 दिनों का प्यार ओ रब्बा बड़ी लंबी जुदाई।

4 दिनों की चाँदनी फिर अँधेरी रात।

4 किताबें तो पढ़ ली, अब 4 पैसे भी कमा लो।

आखिर हमारी भी 4 लोगों में इज़्ज़त है।

ये बात 4 लोग सुनेंगे तो क्या कहेंगे कि 4 दिन की आई बहु ने ये कमाल कर दिया।

4 दिन तो घर में टिक के बैठ जाती।

तुम से क्या 4 कदम भी नहीं चला जाता?

वो आई और 4 बातें सुना कर चली गयी।

4 बोतल वोडका काम मेरा रोज़ का।

Check Also

विनम्र निवेदन!

बिस्किट बनाने वाली कंपनियों को विनम्र निवेदन : पहले मारी वालो कृपया मारी बिस्किट का …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *