Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

पूजन विधि

Rama Ekadashi Vrat vidhi । रमा एकादशी व्रत विधि

हिन्दू धर्म ग्रंथों के अनुसार कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की एकादशी को रमा एकादशी कहा जाता है। रमा एकादशी के दिन भगवान विष्णु का विशेष विधि से पूजन किया जाता है। यह व्रत देवी लक्ष्मी के नाम (रमा) से जाना जाता है, जो दीपावली से चार दिन पहले आता है। इस दिन ब्रह्मचर्य का पालन करते हुए व्रत करने …

Read More »

Shukarvar Vrat vidhi । शुक्रवार व्रत विधि

हिन्दू धर्मानुसार शुक्रवार के दिन व्रत करना बेहद लाभकारी माना जाता है। इस दिन संतोषी माता का व्रत किया जाता है। साथ ही इस दिन कई श्रद्धालु शुक्र ग्रह की भी पूजा करते हैं। शुक्रवार व्रत विधि (Shukarvar puja Vidhi in Hindi) शुक्रवार का व्रत शुक्ल पक्ष के शुक्रवार से आरंभ करना शुभ माना जाता है। शुक्रवार के दिन श्वेत …

Read More »

Vinayaki Ganesh Chaturthi Vrat vidhi । विनायकी गणेश चतुर्थी व्रत विधि

हिन्दू धर्म में विनायकी गणेश चतुर्थी के व्रत का विशेष महत्त्व है। जिस प्रकार चतुर्दशी तिथि को शंकर जी की और एकादशी के दिन विष्णु जी की पूजा की जाती है उसी तरह चतुर्थी तिथि में गणेश जी की पूजा की जाती है। विनायकी गणेश चतुर्थी का व्रत हर माह शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को रखा जाता है। विनायकी गणेश …

Read More »

Shiv chatirdashi vrat vidhi । शिव चतुर्दशी व्रत विधि

हिन्दू धर्म के अनुसार प्रत्येक माह की चतुर्दशी तिथि को भगवान शिव को समर्पित शिव चतुर्दशी का व्रत किया जाता है। भविष्यपुराण के अनुसार प्रत्येक महीने के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को “शिव चतुर्दशी” कहते हैं।इस दिन पूरे विधि-विधान से शिव जी की पूजा की जाती है। इस व्रत को करने से व्यक्ति काम, क्रोध, लोभ, मोह आदि के बंधन …

Read More »

Masik krishanashtmi vrat vidhi । मासिक कृष्णाष्टमी व्रत विधि

प्रत्येक माह की अष्टमी तिथि को कृष्णाष्टमी कहते हैं। इस दिन भगवान शिव की पूजा की जाती है। मासिक कृष्णाष्टमी को शिवोपासना का एक अहम अंग माना जाता है। शिवभक्तों के लिए यह व्रत बेहद महत्व रखता है। मासिक कृष्णाष्टमी व्रत विधि (Masik krishanashtmi vrat vidhi in Hindi) भविष्यपुराण के अनुसार हर माह में पड़ने वाली कृष्णाष्टमी के व्रत में …

Read More »

Ashunya shayan vrat vidhi । अशून्य शयन व्रत विधि

अशून्य शयन व्रत का हिन्दू धर्म में एक विशेष महत्त्व है। भविष्य पुराण के अनुसार अशून्य शयन व्रत श्रावण कृष्ण पक्ष के दूसरे दिन रखा जाता है। इस दिन भगवान विष्णु और लक्ष्मी जी की पूजा की जाती है। पति-पत्नी के रिश्तों को बेहतर बनाने के लिए इस व्रत को बेहद अहम माना जाता है। क्या करे अशून्य शयन व्रत …

Read More »

Amalaki Ekadashi Vrat vidhi । आमलकी एकादशी व्रत विधि

फाल्गुन मास की शुक्ल पक्ष एकादशी को आमलकी एकादशी कहा जाता है। आमलकी का मतलब आंवला होता है, जिसे हिन्दू धर्म शास्त्रों में गंगा के समान श्रेष्ठ बताया गया है। पद्म पुराण के अनुसार आमलकी या आंवला का वृक्ष भगवान विष्णु को बेहद प्रिय होता है। पीपल के समान आंवले के पेड़ में सभी देवताओं का वास होता है। आमलकी …

Read More »

Mohini Ekadashi Vrat vidhi । मोहिनी एकादशी व्रत विधि

पद्म पुराण के अनुसार वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को मोहिनी एकादशी के नाम से जाना जाता है। यह व्रत मोह बंधन तथा पापों से मुक्ति दिलाता है। सीता माता की खोज के दौरान भगवान राम ने तथा महाभारत काल में युधिष्ठिर ने मोहिनी एकादशी व्रत कर अपने सभी दुखों से छुटकारा पाया था। मोहिनी एकादशी व्रत विधि …

Read More »

Apara Ekadashi Vrat vidhi । अपरा एकादशी व्रत विधि

अपरा एकादशी को अचला एकादशी के नाम से भी जाना जाता है। पद्म पुराण के अनुसार ज्येष्ठ माह के कृष्ण पक्ष की एकादशी को अपरा एकादशी कहा जाता है। इस दिन भगवान विष्णु व उनके पांचवें अवतार वामन ऋषि की पूजा की जाती है। अपरा एकादशी व्रत के प्रभाव से अपार खुशियों की प्राप्ति तथा पापों का नाश होता है। …

Read More »

Prabodhini Ekadashi Vrat vidhi । प्रबोधिनी एकादशी व्रत विधि

हिन्दू मान्यतानुसार एकादशी का महत्त्व भगवान विष्णु की पूजा आराधना के लिए है। कार्तिक माह की एकादशी को महत्त्वपूर्ण माना जाता है। कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी को “प्रबोधिनी” एकादशी का नाम दिया गया है। मान्यता है कि इस दिन भगवान विष्णु चार महीने आराम करने के बाद जागते हैं। इस एकादशी को देवोत्थान एकादशी या देव उठनी …

Read More »