Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

अतुल्य भारत

Vehicles of the Gods । पशु-पक्षियों की सवारी क्योँ करते है देवी-देवता जानें

Vehicles of the Gods : शास्त्रों के मुताबिक हर देवी और देवता का एक वाहन होता है। खास बात ये है कि इनके वाहन के लिए पशु-पक्षियों को चुना गया है। क्या आप जानते हैं इसके पीछे क्या कहानी है क्यों देवी-देवता की सवारी के लिए पशु-पक्षियों को ही चुना गया।अध्यात्मिक, वैज्ञानिक और व्यवहारिक कारणों से भारतीय मनीषियों ने देवताओं …

Read More »

Best Time to Eat Yogurt । घर से बाहर निकलते वक्त क्यों खाते हैं दही जानें

Best Time to Eat Yogurt : हिंदू परिवारों में अक्सर घर से निकलने से पहले दही खाने का चलन होता है। ये परंपरा हमारे देश में सदियों से चलती आ रही है। आज भी कई लोग किसी शुभ काम के लिए बाहर जाते हैं तो दही चीनी खाकर जाते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि इसके पीछे की असली …

Read More »

House of the Rising Sun । क्यों देते हैं उगते सूर्य को जल जानें।

House of the Rising Sun : हिंदू संस्कृति में रोज सुबह सूर्य को जल देने की परंपरा है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि क्यों देते हैं सूर्य को जल और क्या हैं इसके कारण।कहा जाता है कि जल से छनकर सूर्य की किरणें जब शरीर पर पड़ती हैं तो शरीर में ऊर्जा का संचार होता है। शरीर में रोग …

Read More »

National Security Guard । एनएसजी के खतरनाक कमांडो के बारें में जानें

National Security Guard : देश के सबसे खतरनाक कमांडो होते हैं ब्लैक कैट कमांडो या एनएसजी कमांडो। एनएसजी को 16 अक्टूबर 1984 में बनाया गया था ताकि देश में होने वाली आतंकी गतिविधियों से निपटा जा सके। नख से लेकर शिख तक काली पोशाक में ढके और पूरे शरीर में कई किस्म के रक्षा-कवचों से लैस एनएसजी के कमांडोज का …

Read More »

Old Goa Church History । गोवा के बोम जीसस चर्च में 460 सालों से जीवित है एक मृत शरीर जानें

Old Goa Church History : किसी भी व्यक्ति की मृत्यु के बाद उसके मृत शरीर का शीघ्र-अतिशीघ्र अंतिम संस्कार कर दिया जाता है, ताकि शरीर सडऩे की प्रक्रिया प्रारंभ न हो और बदबू न आए। पुरानी कुछ सभय्ताओ में शव को संरक्षित करके ममी बना दी जाती थी ताकि शव सदियो तक खराब ना हो। लेकिन क्या यह सम्भव है कि …

Read More »

Cobra Gold military training । कोबरा गोल्ड आर्मी ट्रेनिंग के बारें में जानें

Cobra Gold military training : सेना के जवानों को कभी भी कहीं पर भी लड़ने के लिए या आपदा प्रबंधन के लिए जाना पड़ सकता है जहां पर की उन्हें बद से बदतर हालातों में रहना पड़ता है। कभी कभी वो ऐसी जगह पर फंस जाते है जहाँ उन्हें पीने को पानी तथा खाने को खाना तक नसीब नहीं होता है। ऐसे सभी हालातो …

Read More »

Roopkund Lake in India । जानें रूपकुंड झील – यह है नरकंकालों वाली झील कैसे

यदि आप एडवेंचर ट्रैकिंग के शौक़ीन है तो रूपकुंड झील आपके लिए एक बेहतरीन जगह हैं। रूपकुंड झील (Roopkund lake ) हिमालय के ग्लेशियरों के गर्मियों में पिघलने से उत्तराखंड के पहाड़ों मैं बनने वाली छोटी सी झील हैं। यह झील 5029 मीटर ( 16499 फीट )कि ऊचाई पर स्तिथ हैं जिसके चारो और ऊचे ऊचे बर्फ के ग्लेशियर हैं। यहाँ तक पहुचे का रास्ता …

Read More »

Mysterious Naga Sadhus । जानिए नागा साधुओं का पूरा रहस्य

Mysterious Naga Sadhus : अक्सर मुस्लिम और अंबेडकर वादी नागा साधूओं की तस्वीर दिखा कर हिन्दु धर्म के साधूओं का अपमान करने की और हिन्दुओं को नीचा दिखाने की कोशिश करते हैं उन लोगों को नागा साधूओं का गौरवशाली इतिहास पता नहीं होता जानें नागा साधूओं का गौरवशाली इतिहास और उसकी महानता।नागा साधूओं का इतिहास नागा साधु हिन्दू धर्मावलम्बी साधु …

Read More »

Gayatri Teerth Shantikunj Haridwar । क्या आप जानते है इस मंदिर में 43 साल से जल रही अखंड अग्नि नहीं तो जानें।

Gayatri Teerth Shantikunj Haridwar : हरिद्वार में एक मंदिर ऐसा भी है जहाँ पर 24 घंटे मंदिर में अखंड ज्योति जलती रहे है। यह ज्योति काफी सैलून से जलती आ रही रही। हरिद्वार में एक ऐसा आश्रम है, जहां यज्ञशाला में 43 वर्षों से अखंड अग्नि प्रज्‍जवलित हो रही है। यहां सुबह दो घंटे यज्ञ होते हैं और फिर लोहे …

Read More »

स्त्रियां पायल क्यों पहनती हैं Why do women wear anklets

Why do women wear anklets किसी भी स्त्री के पैरों की सुंदरता में पायल चार चांद लगा देती है। स्त्रियों के सोलह श्रृंगार में पायल भी शामिल है। आमतौर पर यही माना जाता है कि पायल स्त्रियों के लिए श्रृंगार की वस्तु है, लेकिन इससे कई अन्य लाभ भी प्राप्त होते हैं। पायल से प्राप्त होने वाले फायदों के विषय …

Read More »