Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

अतुल्य भारत

The History of Wedding Traditions । शादी में दूल्हा सेहरा क्यों पहनता है जानिए

The History of Wedding Traditions :- भारतीय सनातन धर्म और संस्कृति अति प्राचीन और विशिष्‍ट है। हिंदू संप्रदाय धर्म के आधार पर वेदों को मानने वाला धर्म निष्‍ठ संप्रदाय है। अगर विवाह संस्कार कि बात कि जाए तो शास्त्रों के अनुसार अग्नि को साक्षी मानकर तथा सात वचनों के आदान-प्रदान कर वर-वधु एवं उनके परिजनों द्वारा किए गए संस्कार को …

Read More »

शिवलिंग पर दूध क्यों चढ़ाया जाता है? Shivling Par Doodh

शिवलिंग पर दूध क्यों चढ़ाया जाता है? Shivling Par Doodh भगवान शिव के शिवलिंग पर दूध चढ़ाने की महिमा का विशेष महत्व है। सावन के महीने में शिवलिंग पर दूध चढ़ाने का रिवाज है। भगवान शिव को विश्वास का प्रतीक माना गया है क्योंकि उनका अपना चरित्र अनेक विरोधाभासों से भरा हुआ है जैसे शिव का अर्थ है जो शुभकर …

Read More »

Indian Forts History in Hindi जानिये देश के 10 सबसे सुंदर किले

Indian Forts History in Hindi जानिये देश के 10 सबसे सुंदर किले भारत के विभिन्न हिस्सों में प्राचीन काल में बनाए गए किले आज भी राजाओं, महाराजाओं, नवाबों की याद दिलाते हैं। ये अपने समय की प्रचलित सभ्यता, संस्कृति, भवन कला और उन निशानियों की याद दिलाते हैं जोकि आज भी इनमें मौजूद हैं। आक्रमणकारियों से बचने के लिए दुर्गम …

Read More »

जानिये लड़कियां शादी के बाद क्यों लगाती है बिंदी और उसके फायदे Bindi on Forehead Scientific Reason

जानिये लड़कियां शादी के बाद क्यों लगाती है बिंदी और उसके फायदे Bindi on Forehead Scientific Reason बिंदी लड़कियों को सोलह श्रृंगार में से एक माना गया है। बिंदी किसी भी लड़की की खूबसूरती में चार चांद लगा देती है। लड़कियाँ इसका उपयोग सुंदरता बढ़ाने के उद्देश्य से करती हैं और विवाहित महिलाओं के लिए यह सुहाग की निशानी मानी …

Read More »

साल भर गर्दन तिरछी रहती है लेकिन नवरात्रि में हो जाती है सीधी

साल भर गर्दन तिरछी रहती है लेकिन नवरात्रि में हो जाती है सीधी रायसेन से 37 किमी दूर भोपाल मार्ग पर बिलखिरिया के समीप स्थित मां कंकाली का मंदिर देश भर में प्रसिद्द है। यूं तो वर्ष भर यहां श्रद्धालुओं का आना जाना लगा रहता है लेकिन चैत्र और शारदेय नवरात्रि में यहां हजारों की संख्या में रोजाना श्रद्धालु पहुंचते …

Read More »

What Is Simhastha Kumbh । क्या है सिंहस्थ कुम्भ जानें

What Is Simhastha Kumbh : सिंहस्थ कुम्भ महापर्व एक विशाल आध्यात्मिक आयोजन है, जो मानवता के लिए जाना जाता है। इसके नाम की उत्पत्ति ‘अमरत्व का पात्र’ से हुई है। पौराणिक कथाओं में इसे ‘अमृत कुण्ड’ के रूप में जाना जाता है। भागवत पुराण, विष्णु पुराण, महाभारत और रामायण आदि महान ग्रन्थों में भी अमृत कुंड और अमृत कलश का …

Read More »

Guru Purnima Vrat Vidhi । गुरु पूर्णिमा व्रत के विधान को जानें

Guru Purnima Vrat Vidhi : गुरु पूर्णिमा का पर्व अध्यात्म, संत-महागुरु और शिक्षकों के लिए समर्पित एक भारतीय त्योहार है। यह पर्व पारंपरिक रूप से गुरुओं के प्रति, संतों का सानिध्य प्राप्त करने, अच्छी शिक्षा ग्रहण तथा संस्कार करने, शिक्षकों को सम्मान देने और उनके प्रति आभार व्यक्त करने के लिए मनाया जाता है। 1.प्रातः घर की सफाई, स्नानादि नित्य …

Read More »

Shahi snan at Maha Kumbh । साधु-संत शाही स्नान के लिए क्यों करते हैं खूनी संघर्ष जाने

Shahi snan at Maha Kumbh : हमारे भारत की बहुतेरी व्यवस्थायें धर्मों पर आधारित हैं. आपको अपने आस-पास अनेकों साधु तन पर केसरिया रंग का कपड़ा लपेटे दिख जायेंगे.साधुओं के बारे में आप केवल इतना ही जानते हैं कि वो संसार की मोह-माया से दूर, तामसिक भोजन से परहेज, धन-दौलत के लिए वैराग्य भाव और घुमक्कड़ प्रवृत्ति के होते हैं. …

Read More »

Incredible Facts about Puri Jagannath Temple जगन्नाथ मंदिर के रहस्य के बारें में जाने

Incredible Facts about Puri Jagannath Temple जगन्नाथ मंदिर के रहस्य के बारें में जाने श्री जगन्नाथ मंदिर के ऊपर स्थापित लाल ध्वज सदैव हवा के विपरीत दिशा में लहराता है। ऐसा किस कारण होता है यह तो वैज्ञानिक ही बता सकते हैं लेकिन यह निश्‍चित ही आश्चर्यजनक बात है।यह भी आश्‍चर्य है कि प्रतिदिन सायंकाल मंदिर के ऊपर स्थापित ध्वज को …

Read More »

why tulsi is not offered to lord ganesha । गणेश पूजा में नहीं प्रयोग करते तुलसी के पत्ते जानें

why tulsi is not offered to lord ganesha : हिन्दू धर्म में मूर्ति पूजा की प्रधानता है, इतना ही नहीं ईश्वर की आराधना करने से जुड़े भी कुछ विशेष नियम बनाए गए हैं जिनका पालन करना अत्यंत आवश्यक माना गया है। हिन्दू धर्म प्रकृति से काफी नजदीकी रखता है, शायद इसलिए पुष्प, पल्लव, जल आदि का पूजा पद्धति में काफी …

Read More »