Home / शायरी (page 2)

शायरी

जो हुक्म देता है…

जो हुक्म देता है वो इल्तिजा भी रखता है. दूर बैठे आसमाको कभी जुकना भी पड़ता है. अगर तू बेवफा है तो सुन….. मेरा कोई दूसरा भी इंतिजार करता है.

Read More »

जिंदगी सिखाती है…

जिंदगी बहुत कुछ सिखाती है; कभी हंसती है तो कभी रुलाती है; पर जो हर हाल में खुश रहते हैं; जिंदगी उनके आगे सर झुकाती है…

Read More »

एक पहचान…

एक पहचान हज़ारो दोस्त बना देती हैं, एक मुस्कान हज़ारो गम भुला देती हैं ज़िंदगी के सफ़र मे संभाल कर चलना एक ग़लती हज़ारो सपने जला कर राख देती है

Read More »

लव इस लाइफ

दीवानगी मे कुछ एसा कर जाएंगे। महोब्बत की सारी हदे पार कर जाएंगे। वादा है तुमसे । दिल बनकर तुम धड़कोगे और सांस बनकर हम आएँगे।।।

Read More »

तुम्हारी याद

समंदर के लिए वो लहरे क्या जिसका कोई किनारा ना हो ….. तारो के लिए वो रात क्या जिसमे चाँद ना हो हमारे लिए वो दिन ही क्या…. जिस मे आप की याद ना हो……

Read More »

तुजे देखू तो…

तुझे देखु तो सारा जहाँ रंगीन नज़र आता है, तेरे बिना दिल को चेन किसको आता है! तुम ही हो मेरे दिल की धड़कन, तेरा बिना यह संसार आवारा नज़र आता है!

Read More »

जेब में ईमान रखते हैं

दिलों में खुंदक, चेहरों पर मुस्कान रखते हैं वो नज़रों से छुपा कर, तीर कमान रखते हैं मौका मिलते ही उतार देते हैं तीर दिल में, ग़ज़ब है कि फिर भी, वो शीरी ज़ुबान रखते हैं कैसा ये शहर यहां हर तरफ यही शोर है, कि यहाँ के लोग अपनी …

Read More »

दोस्ती

कुछ रिश्ते रब बनाता है कुछ रिश्ते लोग बनाते है पर कुछ लोग बिना किसी रिश्ते के रिश्ते निभाते है शायद वो ही “दोस्त” कहलाते है

Read More »

ऐ हुस्न वालो…

चुपके चुपके पहले वो ज़िन्दगी में आते हैं; मीठी मीठी बातों से दिल में उतर जाते हैं;, बच के रहना इन हुस्नवालों से यारो; इन की आग में कई आशिक जल जाते हैं।

Read More »