Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

हरियाणवी

ज़ुल्मी तोता!

अपने हरयाणे आले तो तोते बी जुल्मी होवे सै। दिल्ली आला आदमी अपने हरयाणे में आ रहा था एक मेले में घुमण। उड़े उसने एक तोता पसंद आ जा से तो वो दुकान आले ते बुझे से, “अक इसमें के खासियत से?” दुकानदार उस तोते की एक टाँग खीच दे सै तो तोता बोल्या, “गुड मॉर्निंग।” भाई वो आदमी उस …

Read More »

जरूरी निवेदन!

सेवा में, मुख्य अध्यापक जी, श्रीमान जी, बात नयुं ए कि इब श्कूल मा जी नई लगता अर रात ने नींद भी ना आती। दरअसल श्कूल में छोरियों की भारी कमी हो रही है। अर मारी क्लास मा तो छोरी है ही कोइनी। बाकी क्लासां मा जो थोड़ी बहुत हैं पूरी भूंडी शक्ल की हैं। देखने ने भी जी ना …

Read More »

कुत्ते की नज़र!

यो बात सै म्हारे एक ताऊ की, हुआ नु के एक बै ताऊ पैदल आपणे गांव जावै था। रास्ते में उसके जूते पाँ में काटण लाग गये। ताऊ नै जूतियां आपणी लाठी पै टांग ली। गांम के एक छोरे नै मजाक करण की सुझी अर बोल्या, “ताऊ, परांठे बहुत दूर टांग राखे सै।” ताऊ भी कोई कम ना था। ताऊ …

Read More »

सेर पे सवा सेर!

एक छोरा नया नया ब्याहा था, पहली बार ससुराल गया। उसनै घणा बोलण की आदत थी, चुपचाप ना रहया जाया करता। उसकी सासू भी कुछ कम ना थी, सारा दिन फिजूल की बात करती रही। सांझ नै सास परेशान होगी, छोरा तै उसतैं भी घणा बोलै था। वा आपणे उस बटेऊ तैं बोली, “बेटा, सुसराड़ में घणा ना बोल्या करते।” …

Read More »

चौधरी की तपस्या!

एक बै हरियाणा मै बारिस ना होवै थी। तो कुछ शायने माणस कठे हो कै नै एक चौधरी साहब तै नु बोले, “चौधरी साहब तपस्या कर लो, बारिस हो ज्यागी।” चौधरी साहब नै सोचा चलो कोई बात ना सबकी भलाई खातर काम सै कर लेते हैं। तो चौधरी साहब मंडगया तपस्या करण। चौधरी साहब की तपस्या तै खुश हो कै …

Read More »

हरियाणे का भी रिवाज न्यारा है!

हरियाणे का भी रिवाज न्यारा है। उल्टे सीधे नाम निकालने का भी स्वाद न्यारा है; किसी कमजोर को पहलवान कहण का, दूसरे की गर्ल फ्रैंड को सामान कहण का स्वाद न्यारा है; पहलवान को माडू कहण का, और फलों में आडू कहण का।स्वाद न्यारा है; एक अन्धे को सूरदास कहण का, किसी लुगाई न गंडाश कहण का स्वाद न्यारा है। …

Read More »

हरियाणा की ताई!

एक बार एक मुक़ददमे में ताई गवाह बणा दी गई। ताई जा कर खड़ी होई, दोनो वकील भी ताई के गाँव के ही थे। पहला वकील बोला, “ताई तू मन्ने जाने है?” ताई: हाँ भाई तू रामफूल का है ना, तेरा बापु घणा सूधा आदमी था पर तू निक्कमा एक नम्बर का झूठा। एर झूठ, बोल बोल कर के तूं …

Read More »

अंग्रेजी से हरियाणवी भाषा में अनुवाद!

Excuse me – सुण ले झकोई Let him go – जाण दे उसन Fast – तावळा Smooth – चिकणा Ladies – लुगाई Father – बाबू Resolved – सुलटा दिया Slapping – सपोड़ा Let’s go – डिग ले Go – गोली हो ले Wife – बहु Come here – अड़े नै आ Same to same – नु का नु Sunlight – …

Read More »

ज़रूरी बात!

एक बार एक जाट नै रेडियो स्टेशन पर कॉल किया और पूछा, “क्या आप FM स्टेशन से बोल रहे हैं? FM वाला: जी हाँ।” जाट: क्या मेरी आवाज पूरा हरियाणा सुन रहा है। FM वाला: जी हाँ बिलकुल। जाट: यानि घर में मेरा दादा जो रेडियो सुन रहा है उस तक मेरी आवाज पहुँच रही है। FM वाला (गुस्से मैं): …

Read More »

सौ जमात की पढ़ाई!

एक बै शगाई आले लड़का देखण आ रे थे। लड़की के बाप ने लड़के के दादा ते पुछेया: चौधरी शाब, छोरा कौथी (किस) जमात में पढ़ै सै? ताऊ: भाई, न्यूं तै बेरा ना अक कौथी में पढ़ै सै, पर छोरा पूरी सौ जमात पढ़ रहया सै। “सौ जमात? न्यूं किक्कर चौधरी?” “भाई आठ जमात तै म्हारे गाम के श्कूल (Middle …

Read More »