Home / गुदगुदी / हरियाणवी

हरियाणवी

लँगड़ाने का राज़

हड्डियों के विशेषज्ञ दो डॉक्टर सुबह-सुबह घूमने निकले। आगे एक आदमी लंगड़ाता हुआ जा रहा था। एक डॉक्टर बोला, “लगता है इसकी टखने की हड्डी टूटी हुई है।” दूसरा डॉक्टर बोला, “नहीं यार, घुटने की हड्डी टूटी है।” दोनों में बहस होने लगी। आखिर तय हुआ कि उसी व्यक्ति से …

Read More »

सौ जमात की पढ़ाई!

शगाई आले लड़का देखण आ रे थे। लड़की के बाप ने लड़के के दादा ते पुछेया: चौधरी शाब, छोरा कौथी (किस) जमात में पढ़ै सै? ताऊ: भाई, न्यूं तै बेरा ना अक कौथी में पढ़ै सै, पर छोरा पूरी सौ जमात पढ़ रहया सै। “सौ जमात? न्यूं किक्कर चौधरी?” “भाई …

Read More »

दूर की ख़बर!

एक बै एक छोरा खेत म्ह रेडियो सुणे था। रेडियो पै एक लुगाई बताण लाग री थी, बंबई मै बाढ़ आ गी, गुजरात मै हालण आग्या, दिल्ली म्ह… । छोरे नै देख्या पाच्छै नाका टूट्या पड़्या सै, अर पाणी दूसरे के खेत म्ह जाण लाग रहया सै। छोरे छोंह म्ह …

Read More »

ना निगला जाये, ना थूका जाये!

एक बै एक जाट भाई अपनी एक नई रिश्तेदारी में चल्या गया, साथ में उसका नाई भी था। नई रिश्तेदारी थी, खातिरदारी में फटाफट गरमा-गरम हलवा हाजिर किया गया। दोनूं सफर में थक रहे थे, भूख भी करड़ी लाग रही थी। हलवा आते ही दोनूंआं नै चम्मच भरी और मुंह …

Read More »

थम पंछी एक डाल के!

बिल गेट्स ने अपने माइक्रोसॉफ्ट के कनाडा के बिज़नेस के लिए चेयरमैन की जॉब लिए एक इंटरव्यू रखा। इंटरव्यू के लिए तकरीबन 5000 लोग एक बड़े से हॉल में इकट्ठा हुए। इन सब में एक उमीदवार करनाल, हरियाणा से भी था। नाम था राज कुमार। बिल गेट्स: इंटरव्यू में आने …

Read More »

दिखावों पे ना जाओ अपनी अक्ल लगाओ!

एक ट्रेन मेँ एक पंडित एक गुज्जर एक बनिया और एक जाट सफर कर रहे थे। पंडित ने रौब झाडते हुऐ 100 का नोट निकाला और उस पर तम्बाकू डाल कर उसको बीडी बना कर पीने लगा। फिर गुज्जर ने 500 का नोट निकाला उसने भी पंडित की तरह बीडी …

Read More »

ज़ुल्मी तोता!

अपने हरयाणे आले तो तोते बी जुल्मी होवे सै। दिल्ली आला आदमी अपने हरयाणे में आ रहा था एक मेले में घुमण। उड़े उसने एक तोता पसंद आ जा से तो वो दुकान आले ते बुझे से, “अक इसमें के खासियत से?” दुकानदार उस तोते की एक टाँग खीच दे …

Read More »

जरूरी निवेदन!

सेवा में, मुख्य अध्यापक जी, श्रीमान जी, बात नयुं ए कि इब श्कूल मा जी नई लगता अर रात ने नींद भी ना आती। दरअसल श्कूल में छोरियों की भारी कमी हो रही है। अर मारी क्लास मा तो छोरी है ही कोइनी। बाकी क्लासां मा जो थोड़ी बहुत हैं …

Read More »

कुत्ते की नज़र!

यो बात सै म्हारे एक ताऊ की, हुआ नु के एक बै ताऊ पैदल आपणे गांव जावै था। रास्ते में उसके जूते पाँ में काटण लाग गये। ताऊ नै जूतियां आपणी लाठी पै टांग ली। गांम के एक छोरे नै मजाक करण की सुझी अर बोल्या, “ताऊ, परांठे बहुत दूर …

Read More »

सेर पे सवा सेर!

एक छोरा नया नया ब्याहा था, पहली बार ससुराल गया। उसनै घणा बोलण की आदत थी, चुपचाप ना रहया जाया करता। उसकी सासू भी कुछ कम ना थी, सारा दिन फिजूल की बात करती रही। सांझ नै सास परेशान होगी, छोरा तै उसतैं भी घणा बोलै था। वा आपणे उस …

Read More »