Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

वैदिक ज्ञान

क्या आप जानते हैं कि महाभारत का खलनायक कौन था?

गांधारी के भाई और दुर्योधन के मामा शकुनि को कौन नहीं जानता? महाभारत में शकुनि का किरदार अहम रहा है। कहते हैं कि बुद्धिबल, शस्त्रबल से भी ज्यादा खतरनाक होता है। महाभारत में कृष्ण, शकुनि, भीष्म, विदुर, द्रोण आदि ऐसे लोग थे जिन्होंने अपने बुद्धिबल का प्रयोग किया। महाभारत की गाथा में शकुनि अपनी कुटिल बुद्धि के लिए विख्‍यात माना …

Read More »

क्या थे भीष्म पितामह के 16 रहस्य, जानें

पुराणों के अनुसार ब्रह्माजी से अत्रि, अत्रि से चन्द्रमा, चन्द्रमा से बुध और बुध से इलानंदन पुरुरवा का जन्म हुआ। पुरुरवा से आयु, आयु से राजा नहुष और नहुष से ययाति उत्पन्न हुए। ययाति से पुरु हुए। पुरु के वंश में भरत और भरत के कुल में राजा कुरु हुए।  जम्बूद्वीप के महान सम्राट कुरु कुरु के वंश में आगे …

Read More »

महाभारत युद्ध से जुड़ा 18 अंक का रहस्य क्यों?

महाभारत में संपूर्ण धर्म, दर्शन, समाज, संस्कृति, युद्ध और ज्ञान-विज्ञान की बातें शामिल हैं। ऐसा कुछ भी नहीं है, जो महाभारत में नहीं है। हालांकि यह एक आश्चर्य और रहस्य आज भी बरकरार है कि आखिर महाभारत के युद्ध में जहां कृष्ण के साथ 8 अंक जुड़ा रहा वहीं इस युद्ध में 18 का अंक की समानता का रहस्य क्यों …

Read More »

महाभारत युद्ध के 10 रहस्य

महाभारत को ‘पंचम वेद’ कहा गया है। यह ग्रंथ हमारे देश के मन-प्राण में बसा हुआ है। यह भारत की राष्ट्रीय गाथा है। इस ग्रंथ में तत्कालीन भारत (आर्यावर्त) का समग्र इतिहास वर्णित है। अपने आदर्श स्त्री-पुरुषों के चरित्रों से हमारे देश के जन-जीवन को यह प्रभावित करता रहा है। इसमें सैकड़ों पात्रों, स्थानों, घटनाओं तथा विचित्रताओं व विडंबनाओं का …

Read More »

जानें किन सुन्दर स्त्रियों की वजह से हुआ था महाभारत

महाभारत में भूमि बंटवारा युद्ध का सबसे बड़ा कारण था। लेकिन दूसरे लोग मानते हैं कि बंटवारा शांतिपूर्वक हो सकता था लेकिन कुछ महिलाओं की जिद के कारण कौरवों और पांडवों के बीच कटुता बढ़ गई जिसके परिणामस्वरूप युद्ध हुआ।बहुत से लोग महाभारत युद्ध का दोषी महिलाओं को मानते हैं। धृतराष्ट्र और पांडु की माताएं अम्बिका और अम्बालिका काशी नरेन्द्र …

Read More »

चक्रव्यूह क्या था, और क्यूँ चक्रव्यूह युद्ध का निर्णय कर सकता था

सूर्य, चन्द्र, मंगल, ब्रहस्पति, शनि, बुध, शुक्र, राहू, और केतु, जो नवग्रह हैं उसकी गति के अनुपात मैं व्यूह की रचना को चक्रव्यूह कहते हैं; सिर्फ इतना ही नही वेदांत ज्योतिष के अनुसार बारह खंड या भाग/घर का क्रमांक भी निश्चित होता है| चक्रव्यूह नवग्रह की उस समय की दिशा से ठीक विपरीत दिशा मैं चलता है, और पूरे सौर्यमण्डल मैं उसका फैलाव होता है| उसकी मार का कोइ तोड़ नहीं होता| वह बारह …

Read More »

भगवान को देखना हो तो इस पोस्ट को जरूर पढे

सबसे पहले मैं आपको “भगवान” शब्द का अर्थ बताता हुँ । यह शब्द भ+ग+व+अ+न इन पाँच अक्षरों से मिलकर बना है। भ= भूमि ग= गगन व= वायु अ= अग्नि न= नीर (जल) पृथ्वि, जल, तेज, वायु, आकाश इन पाँच तत्वों से ही इस सृष्टि का निर्माण हुआ है । संस्कृत में “भग” शब्द का अर्थ ऐश्वर्य से है । अर्थात जो समस्त …

Read More »

Ram setu History – रामसेतु तथा राम के युग की प्रामाणिकता

रामसेतु तथा राम के युग की प्रामाणिकता हम भारतीय विश्व की प्राचीनतम सभ्यता के वारिस है तथा हमें अपने गौरवशाली इतिहास तथा उत्कृष्ट प्राचीन संस्कृति पर गर्व होना चाहिए। किंतु दीर्घकाल की परतंत्रता ने हमारे गौरव को इतना गहरा आघात पहुंचाया कि हम अपनी प्राचीन सभ्यता तथा संस्कृति के बारे में खोज करने की तथा उसको समझने की इच्छा ही …

Read More »

वेद के अनुसार व्रत

सत्य विद्याओं की पुस्तक वेद हैं और धर्म की जिज्ञासा वाले के लिए वेद ही परम प्रमाण है ,अतः हमें वेद में ही देखना चाहिए कि वेद का इस विषय में क्या आदेश है ? वेद का आदेश है—- व्रतं कृणुत !  ( यजुर्वेद  ४-११ ) व्रत करो , व्रत रखो , व्रत का पालन करो ऐसा वेद का स्पष्ट …

Read More »