Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

हिंदू धर्म

आज है सावन का पहला सोमवार, देशभर के शिव मंदिरों में श्रद्धालुओं का लगेगा तांता

आज सोमवार सावन मास का तीसरा दिन है। इस पूरे महीने में शिव पूजा का विशेष महत्व है। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. प्रवीण द्विवेदी के अनुसार, शिवजी की पूजा विधि बहुत ही विस्तृत है, इसलिए वर्तमान की भाग-दौड़ भरी लाइफ में इतना समय शायद ही किसी के पास हो। इस स्थिति में आसान विधि से भी शिवजी की पूजा सावन …

Read More »

Refreshed through Worship । जाने पूजा में क्यों होता है संकल्प का विधान

Refreshed through Worship : देवी देवताओं के इस देश में पूजा पाठ, कर्म कांड जैसे कई धार्मिक आयोजन रोज किए जाते है। देवी देवताओं का हमारे समाज में उच्च स्थान है। जो भी भक्त सच्चे मन से देवी देवताओं के दर्शन करता है, ईश्वर उसकी अराधना अवश्य सुनते है। पूजा पाठ, दान पूण्य करने से हमारे शरीर में सकारात्मक उर्जा …

Read More »

How To Worship Lord Hanuman? । मनोकामना पूरी करने के लिए कैसे करे हनुमान जी की आराधना जाने

How To Worship Lord Hanuman? :- हिन्दू धर्म में भोलेनाथ से संबंधित यह मत है कि उनकी उपासना करने से वे जल्द प्रसन्न हो जाते हैं और मनोकामना पूर्ण कर देते हैं। लेकिन ग्यारहवें रुद्र माने जाने वाले हनुमान जी भी अपने भक्तों की पुकार जल्दी सुनते हैं। यदि दिल से उनका जाप किया जाए, उनकी उपासना की जाए, तो …

Read More »

Astrological Remedies for Bad Planetary Effects । ग्रहों से मुक्ति के लिए कौन सी पूजा करवानी चाहिए जानिए

Astrological Remedies for Bad Planetary Effects :- हम जहां रहते हैं वहां कई ऐसी शक्तियां होती हैं, जो हमें दिखाई नहीं देतीं किंतु बहुधा हम पर प्रतिकूल प्रभाव डालती हैं जिससे हमारा जीवन अस्त-व्यस्त हो उठता है और हम दिशाहीन हो जाते हैं। इन अदृश्य शक्तियों को ही आम जन ऊपरी बाधाओं की संज्ञा देते हैं। भारतीय ज्योतिष में ऐसे …

Read More »

KYON MANAI JAATI HAI NAAG PANCHMI । क्यों मनाई जाती है नाग पंचमी

हर वर्ष श्रावण मास की शुक्ल पक्ष की पंचमी के दिन नाग पंचमी का पर्व श्रद्धा और भक्ति के साथ मनाया जाता है। इस दिन सर्प की पूजा की जाती है। कहा जाता है कि आज के दिन यदि नाग के दर्शन हो जाए तो पूजा सफल हो जाती है। आज हम आपको नागपंचमी की कथा के बारे में बता …

Read More »

अमरनाथ यात्रा का इतिहास

अमरनाथ गुफा हिन्दुओं का प्रमुख तीर्थस्‍थल है. प्राचीनकाल में इसे अमरेश्वर कहा जाता था. श्रीनगर से करीब 145 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है अमरनाथ गुफा जो हिमालय पर्वत श्रेणियों में स्थित है. समुद्र तल से 3,978 मीटर की ऊंचाई पर स्थित यह गुफा 160 फुट लंबी,100 फुट चौड़ी और काफी ऊंची है. अमरनाथ की गुफा का महत्व सिर्फ इसलिए नहीं …

Read More »

शक्ति और जागरण की रात – महाशिवरात्रि

शक्ति और जागरण की रात – महाशिवरात्रि   जैसा की हमने आपको अपने पिछले लेख में बताया था की इंडिया हल्लाबोल के पाठकों की डिमांड पर हमने दुनिया की तन्त्र की राजधानी माने जाने वाली पीठ “कामख्या मंदिर” (गुवाहटी, असम) के भैरव पीठ के उत्तराधिकारी श्री शरभेश्वरा नंद “भैरव” जी महाराज से बात कर उनसे तन्त्र के सही स्वरूप को …

Read More »

कहां से आया नाग, डमरु, त्र‌िशूल, त्र‌िपुंड और नंदी श‌िवजी के पास

कहां से आया नाग, डमरु, त्र‌िशूल, त्र‌िपुंड और नंदी श‌िवजी के पास  भगवान श‌िव का ध्यान करने मात्र से मन में जो एक छव‌ि उभरती है वो एक वैरागी पुरुष की। इनके एक हाथ में त्र‌िशूल, दूसरे हाथ में डमरु, गले में सर्प माला, स‌िर पर त्र‌िपुंड चंदन लगा हुआ है। माथे पर अर्धचन्द्र और स‌िर पर जटाजूट ज‌‌िससे गंगा …

Read More »

गुरूदीक्षा का महत्व Guru Diksha or Mantra Diksha

गुरूदीक्षा का महत्व Guru Diksha or Mantra Diksha  गुरु के पास जो श्रेष्ठ ज्ञान होता है, वह अपने शिष्य को प्रदान करने और उस ज्ञान में उसे पूरी तरह से पारंगत करने की प्रक्रिया की गुरु दीक्षा कहलाती है। गुरु दीक्षा गुरू की असीम कृपा और शिष्य की असीम श्रद्धा के संगम से ही सुलभ होती है। शास्त्रों में लिखा है- …

Read More »

डाकू रत्नाकर से महर्षि वाल्मीकि बनने की कहानी

डाकू रत्नाकर से महर्षि वाल्मीकि बनने की कहानी Maharishi Valmiki Story in Hindi बहुत समय पहले की बात है किसी राज्य में एक बड़े ही खूंखार डाकू का भय व्याप्त था। उस डाकू का नाम रत्नाकर था। वह अपने साथियों के साथ जंगल से गुजर रहे राहगीरों को लूटता और विरोध करने पर उनकी हत्या भी कर देता। एक बार देवऋषि …

Read More »