Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

गीता उपदेश

Know About Bhishma Pitamaha । भीष्म पितामह के संपूर्ण जीवन परिचय के बारें में जानिए

Know About Bhishma Pitamaha : महाभारत एक बहुत ही विशाल ग्रंथ है। इस ग्रंथ में वर्णित बहुत से नायक परम पराक्रमी और बुद्धिमान थे। इन्हीं में से एक नायमक थे पाँडवो और कौरवों के पितामह भीष्ण।सभी लोग जानते हैं कि भीष्म पितामह ने महाभारत की लड़ाई में कौरवों की ओर से युद्ध किया था, लेकिन बहुत से लोग उनके जीवन …

Read More »

Mahabharat Bhim Story । भीम में कैसे आया था दस हजार हाथियों का बल जानिए

Mahabharat Bhim Story : भीम पान्डु के पुत्र थे और पान्डवों में गिने जाते थे। माना जाता है कि उनमें 10 हजार हाथियों का बल था, जिससे उन्होंने महाभारत के युद्ध में कई हाथियों को अंतरिक्ष में फेंक दिया था। एक बार तो उन्होंने अकेले ही नर्मदा नदी का प्रवाह रोक दिया था।  लेकिन भीम में यह दस हज़ार हाथियों का …

Read More »

The Story of Narada । नारदजी के मन में क्या अभिमान आया था जानिये

The Story of Narada : एक बार नारदजी के मन में यह अभिमान उभर आया कि उनके समान संगीतज्ञ इस संसार में दूसरा कोई नहीं है। एक दिन भ्रमण करते हुए उन्होंने मार्ग में कुछ स्त्री-पुरुषों को देखा जो घायल पड़े हुए थे और उनके विशेष अंग कटे हुए थे। नारद ने उनसे इस स्थिति का कारण पूछा तो वे …

Read More »

Dharma in the Bhagavad-gita । युद्ध स्थल में अर्जुन ने श्री कृषण से क्या कहा जानिए

Dharma in the Bhagavad-gita : युद्ध स्थल में अर्जुन के श्री कृषण से कहे इन वाक्यों से ऐसा भ्रम हो सकता है की अर्जुन के मन में अहिंसा की भावना उत्पन्न हुई और भगवन श्री कृषण ने अर्जुन को युद्ध के लिए प्रेरित किया किन्तु इस श्लोक का अर्थ और अर्जुन के मन के भाव को समझना अति आवशक है …

Read More »

Conversation between Krishna and Arjuna in the Gita । कैसे भगवान श्री कृष्ण बड़े कृपालु हैं जानिए

Conversation between Krishna and Arjuna in the Gita : जीव किसी भी भाव से उनकी शरण ले ले वे उसका कल्याण कर देते हैं।जीव तभी तक अपवित्र है जब तक वह ठाकुर जी से सम्बन्ध नहीं रखता है।भगवद बिमुख जबतक हम हैं तबतक वासना, लोभ, क्रोध, पाप कर्म के विचार हमारा पीछा नहीं छोड़ते हैं। गीता में भगवान् अर्जुन को …

Read More »

Do You Know Who God Is । जानिए भगवान कौन है

Do You Know Who God Is : प्राय: यह प्रश्न किया जाता है – भगवान कौन है ? और यह भगवान कहां रहता है ? गीता में कृष्ण ने कहा है – ‘मन की आंखें खोलकर देख, तू मुझे अपने भीतर ही पाएगा’ । भगवान कण – कण में व्याप्त हैं ।‘भगवान’ नाम कब प्रारंभ हुआ ? किसने यह नाम …

Read More »

जानें अर्जुन के अतिरिक्त गीता का उपदेश किसने सुना

भगवद्‍गीता के पठन-पाठन, श्रवण एवं मनन-चिंतन से जीवन में श्रेष्ठता के भाव आते हैं। गीता भगवान की श्वास और भक्तों का विश्वास है। गीता ज्ञान का अद्भुत भंडार है। गीता आत्मा एवं परमात्मा के स्वरूप को व्यक्त करती है। श्री कृष्ण के उपदेशों को प्राप्त कर अर्जुन उस परम ज्ञान की प्राप्ति करते हैं जो उनकी समस्त शंकाओं को दूर …

Read More »

क्या आप जानते हैं गीता सुनाने में कितना समय लगा

कलियुग के प्रारंभ होने के मात्र तीस वर्ष पहले, मार्गशीर्ष शुक्ल एकादशी के दिन, कुरुक्षेत्र के मैदान में, अर्जुन के नन्दिघोष नामक रथ पर सारथी के स्थान पर बैठ कर श्रीकृष्ण ने अर्जुन को गीता का उपदेश किया था। इसी तिथि को प्रतिवर्ष गीता जयंती का पर्व मनाया जाता है। कलियुग का प्रारंभ परीक्षित के राज्याभिशेष से माना जाता है, …

Read More »

भगवद् गीता के 9 बेहतरीन मैनेजमेंट फंडे

भगवद् गीता के 9 बेहतरीन मैनेजमेंट फंडे महाभारत के युद्ध में श्रीकृष्ण ने अर्जुन को शस्त्र उठाने के लिए गीता के जो उपदेश दिए थे, विशेषज्ञों के अनुसार इनमें आज के मैनेजमेंट के मंत्र छिपे हुए हैं। धर्म ग्रंथों के अनुसार मार्गशीर्ष मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को भगवान श्रीकृष्ण ने कुरुक्षेत्र के मैदान में अर्जुन को गीता …

Read More »

गीता में सभी समस्याओं के समाधान के उपाय

गीता के उपदेशों में आधुनिक समस्याओं का हल छिपा है। गीता फल के बिना कर्म करने का उपदेश देती हैं। व्यक्ति कर्म तो करता है लेकिन तुरंत फल की कामना करने लगता है। इससे अवसाद होता है। इससे बचने के लिए हमें गीता के उपदेश को आत्मसात करने चाहिए। मानवी सभ्यता के अन्तः स्पन्दनों बाह्य गतिविधियों का अध्ययन-विश्लेषण करने पर …

Read More »